Sri Lanka President: श्रीलंका के नए राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने ली शपथ,आर्थिक संकट से निपटना होगी चुनौती

 
Sri Lanka President

श्रीलंका के शीर्ष राजनेता रानिल विक्रमसिंघे ने आज गुरुवार को देश के आठवें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। रानिल विक्रमसिंघे को बुधवार को श्रीलंका का नया राष्ट्रपति देश की संसद ने चुना था। विक्रमसिंघे इससे पहले देश के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। न्यायाधीश जयंत जयसूर्या ने आज राष्ट्रपति पद की उनको शपथ दिलाई। इस समय श्रीलंका भयावह आर्थिक संकट से जूझ रहा है। विक्रमसिंघे के सामने इस समय सबसे बड़ी चुनौती व अग्नि परीक्षा देश को आर्थिक संकट से निकाल फिर विकास की पटरी पर लाना है।
गोतबाया राजपक्षे के देश छोड़कर भागने और इस्तीफा देने के बाद विक्रमसिंघे को कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया था। देश के संविधान के अनुसार संसद द्वारा चुने जाने वाले वे पहले राष्ट्रपति हैं। उनसे पहले स्वर्गीय डीबी विजेतुंगा मई 1993 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रेमदासा के निधन के बाद निर्विरोध निर्वाचित किए गए थे। 

Read also: Bus Accident In Rishikesh: रोडवेज की बस अनियंत्रित होकर पलटी,24 यात्री बुरी तरह से घायल

श्रीलंका की 225 सदस्यीय संसद ने बुधवार को विक्रमसिंघे को नया राष्ट्रपति चुना था। विक्रमसिंघे को  134 वोट मिले थे। जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी और असंतुष्ट सत्तारूढ़ दल के नेता दुल्लास अल्हाप्परुमा को मात्र 82 वोट मिले थे। त्रिकोणीय मुकाबले में वामपंथी जनता विमुक्ति पेरामुना नेता अनुरा कुमारा दिसानायके को मात्र तीन वोट ही मिले थे।  विक्रमसिंघे के सामने सबसे बड़ी चुनौती श्रीलंका को आर्थिक संकट से बाहर निकालने की है। इसी के साथ ही बड़े विरोध के बाद कानून व्यवस्था बहाल करना भी होगी। राष्ट्रपति विक्रमसिंघे अगले कुछ दिनों में 20-25 सदस्यों का मंत्रिमंडल बनाएंगे। विक्रमसिंघे को पूर्ववर्ती राष्ट्रपति राजपक्षे की पार्टी श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना के समर्थन से जीत मिली है। इसने दिखा दिया है कि हाल के सप्ताह में गोतबाया राजपक्षे, पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे और पूर्व वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे के इस्तीफों के बाद भी श्रीलंका की सत्ता पर राजपक्षे परिवार की  पकड़ मजबूत है।