World Food Crisis: खाद्य असुरक्षा पर भारत ने जताई चिंता, यूक्रेन के अनाज निर्यात सौदे का स्वागत

 
World Food Crisis

कींव। रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध ने दुनिया भर में खाद्य सुरक्षा पर असर डाला है। भारत ने अनाज और उर्वरकों के निर्यात पर रूस और यूक्रेन के बीच संयुक्त राष्ट्र की ओर से किए गए समझौते का स्वागत किया। भारत ने उम्मीद जताई कि सभी पक्षों द्वारा इसको गंभीरता से लागू किया जाएगा। इसी के साथ ही भारत ने आगाह भी किया कि अकेले ये उपाय देश के लिए पर्याप्त नहीं हैं। खाद्य असुरक्षा की चिंताओं को दूर करने के लिए सभी को आगे गंभीरता के साथ विचार करना होगा। रूस यूक्रेन संघर्ष का असर दुनिया भर में पड़ रहा है। रूस यूक्रेन युद्ध का प्रभाव केवल यूरोप तक सीमित नहीं है बल्कि यह आधी से ज्यादा दुनिया को अपनी चपेट में ले चुका है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन प्रभारी राजदूत आर रवींद्र ने बताया कि संघर्ष विशेष रूप से विकासशील देशों में खाद्य और उर्वरक के अलावा और ईंधन सुरक्षा पर चिंताओं को भी बढ़ा रहा है।

उन्होंने कहा कि जब खाद्यान्न की बात होती है तो सभी के लिए इक्विटी, सामर्थ्य और उसके पहुंच के महत्व की पर्याप्त रूप से सराहना करना जरूरी है। खुले बाजार को असमानता बनाए रखने और उसके  भेदभाव को बढ़ावा देने का तर्क नहीं बनाना चाहिए। यूक्रेन पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आर रवींद्र ने कहा कि हम अनाज और उर्वरकों के सुरक्षित निर्यात को सुनिश्चित करने की दिशा में उठाए गए कदम का स्वागत करते हैं। हमें उम्मीद है कि इन सहमत उपायों पर सभी पक्षों इसको गंभीरता से लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि भारत को विश्वास है कि ये अकेले उपाय खाद्य असुरक्षा की चिंताओं को दूर करने के लिए पर्याप्त नहीं।

Read also: Badrinath Highway Landslide: भारी बारिश में बहा बदरीनाथ धाम हाइवे,700 तीर्थ यात्री फंसे दोनों ओर वाहनों की लाइनें

पिछले शुक्रवार को ही रूस और यूक्रेन के मंत्रियों ने इस्तांबुल में संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में चल रहे युद्ध के बीच काला सागर से यूक्रेनी अनाज निर्यात को फिर से शुरू करने पर हस्ताक्षर किए थे। इसको ब्लैक सी ग्रेन इनिशिएटिव नाम दिया गया था। संयुक्त राष्ट्र की योजना के अनुरूप ही रूसी खाद्य और उर्वरक के वैश्विक बाजारों तक पहुंचने का मार्ग प्रशस्त करती है।