UNSC Meeting: रासायनिक हथियारों के प्रति भारत ने दुनिया को किया आगाह,दिया दो लाख डालर का अनुदान

 
UNSC Meeting

न्यूयार्क। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत ने आतंकवादियों द्वारा रासायनिक हथियारों को प्राप्त करने और उनके उपयोग पर दुनिया को आगाह किया है। भारत ने कहा है कि वह बार बार आतंकी संगठनों और लोगों के रासायनिक हथियारों प्राप्त करने की संभावना के प्रति चेतावनी देता आया है।  यूएनएससी में रासायनिक हथियारों के उपयोग के खतरे पर संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के काउंसलर प्रतीक माथुर ने कहा कि भारत कई मुद्दों को हल करने के लिए सीरिया और रासायनिक हथियार निषेध संगठन तकनीकी सचिवालय के बीच  जुड़ाव को प्रोत्साहित करता रहा है।

Read also: Henley Passport Index 2022: पासपोट रैंकिंग में भारत 87 वें और पाकिस्तान 109 पायदान पर

उन्होंने कहा, भारत कहीं भी, किसी भी समय और किसी भी परिस्थिति में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ है। भारत ने कहता आया है कि रासायनिक हथियारों के उपयोग की किसी भी प्रकार की जांच निष्पक्ष और विश्वसनीय और उद्देश्यपूर्ण होनी चाहिए।
भारत द्वारा आतंकियों तक रासायनिक हथियारों की पहुंच रोकने के प्रयास पर राजदूत ने कहा कि इस दिशा में भारत ने जांच के समर्थन में दो लाख डॉलर का योगदान दिया है। माथुर ने कहा कि हम रासायनिक सम्मेलन को अत्यधिक महत्व देते हैं। इसके पूर्ण, प्रभावी और गैर-भेदभावपूर्ण लागू करने के लिए हमेशा खड़े हैं। रासायनिक हथियार निषेध संगठन संयुक्त राष्ट्र संघकी एक संस्था है जो विश्व में रासायनिक हथियारों को नष्ट करने, उनकी रोकथाम के लिए काम करती है। वर्तमान में संस्था सीरिया में हथियारों को समाप्त करने का काम कर रही है। संस्था को 2013 का नोबेल शांति पुरस्कार मिला है।