Breaking News: भारत और रूस मिलकर करेंगे आतंकवाद का खात्मा,अन्य मंचों पर होंगे एकजुट

 
Breaking News

मास्को। भारत और रूस अब मिलकर आतंकवाद का खात्मा करेंगे। आतंकवाद के खिलाफ दोनों देशों ने सहयोग और गहरा करने का फैसला किया है। दोनों देश संयुक्त राष्ट्र व अन्य मंचों पर आतंकवाद जैसे गंभीर मसले को लेकर एकजुट होंगे।  यह सहमति मास्को में विदेश मंत्रालय के सचिव संजय वर्मा और रूसी विदेश मंत्रालय अधिकारियों के बीच बनी है। वर्मा ने रूसी अधिकारियों के साथ संयुक्त राष्ट्र से संबंधित मामलों पर परामर्श के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया है। बातचीत में दोनों देशों ने आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय मंचों पर एक साथ मिलकर पक्ष रखने को रजामंद हुए हैं।

रूसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व रूस के विदेश मामलों के उपमंत्री सर्गेई वासिलीविच ने किया। भारत और रूसी अधिकारियों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के नए एजेंडे और ताजा घटनाक्रम से संबंधित मुद्दों पर व्यापक चर्चा की। मास्को में में हुई ये वार्ता यूक्रेन में जारी लड़ाई के बीच हुई। भारतीय पक्ष ने दिसंबर 2022 में सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष पद मिलने पर भारत की प्राथमिकताओं से रूसी अधिकारियों को अवगत कराया। भारत परिषद में अपने मौजूदा कार्यकाल में दूसरी बार अध्यक्ष बन रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता हर माह बदलती है। यह अंग्रेजी के वर्णक्रम के अनुसार होता है। बारी बारी से अपने नाम के मुताबिक ही सदस्य देश अध्यक्ष बनते हैं। 

Read also: Yogi Ka Bulldozer: कर्नाटक के सीएम भी अपना सकते हैं योगी का बुलडोज़र मॉडल

सुरक्षा परिषद में हर साल पांच नए अस्थाई सदस्य रखे जाते हैं। सुरक्षा परिषद के कुल सदस्यों की संख्या 15 है। इनमें से पांच स्थाई सदस्य हैं। जिनमें फ्रांस,चीन, ब्रिटेन, रूस और अमेरिका शामिल हैं। स्थाई सदस्यों के पास वीटो अधिकार होता है। इसी माह परिषद में पांच नए देश अस्थाई सदस्य बने हैं। ये ब्राजील,अल्बानिया, घाना, गेबॉन और संयुक्त अरब अमीरात हैं। ये नए सदस्य आयरलैंड,भारत, मैक्सिको, केन्या और नॉर्वे का स्थान लेंगे। जिनका कार्यकाल इसी वर्ष दिसंबर 2022 में खत्म हो रहा है।