Ukraine Russia War: यूक्रेन को अमेरिका ने दी 60 करोड डाॅलर की अतिरिक्त सैन्य सहायता,अमेरिकी हथियों की यह 21 वीं खेप

 
Ukraine Russia War:

कीव। रूस से युद्ध लड़ रहे यूक्रेन को अमेरिका ने एक और सैन्य सहायता दी है। अमेरिका ने अब यूक्रेन को 60 करोड़ डॉलर की अतिरिक्त सैन्य सहायता देने का एलान किया। अमेरिकी विदेश विभाग ने आज शुक्रवार को यह घोषणा की है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने जानकारी देते हुए बताया कि सितंबर 2021 के बाद से यूक्रेन के लिए अमेरिकी हथियारों की यह 21 वीं खेप होगी। 60 करोड़ डॉलर की इस सहायता के अलावा हथियार और युद्ध सामग्री भी इसमें शामिल है। इसके साथ यूक्रेन के लिए कुल अमेरिकी सैन्य सहायता करीब 15.8 अरब डॉलर तक पहुंच गई है। अमेरिका किसी भी कीमत में रूस से यह युद्ध यूक्रेन को जितवाना चाहता है। ब्लिंकन ने बताया कि मित्र राष्ट्रों और भागीदारों के साथ अमेरिका उन हथियारों और उपकरणों को यूक्रेन को सौंप रहा है। जिनका यूक्रेन की सेना प्रभावी तरीके से उपयोग कर रही है। यूक्रेन  सेना रूस के आक्रमण के खिलाफ पूरी तरह से सफल जवाबी हमले कर रही है। ब्लिंकन ने राष्ट्रपति जो बाइडन का जिक्र करते हुए कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने स्पष्ट कर दिया है कि अमेरिका यूक्रेन के लोगों की मदद तब तक करेगा, जब तक वे इसके लिए तैयार रहेंगे। यूक्रेन के लोग धैर्य और दृढ़ संकल्प के साथ अपनी मातृभूमि की रक्षा कर रहे हैं। यूक्रेन अपने भविष्य के लिए लड़ रहे हैं।

अमेरिका 50 से अधिक देशों के सहयोगियों और भागीदारों के साथ यूक्रेन को सैन्य मदद उपलब्ध करा रहा है। ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका सहयोगियों के साथ यूक्रेन की पूरी मदद करता रहेगा। रूस ने गत 24 फरवरी को यूक्रेन पर हमला किया था। इससे पहले उसने यूक्रेन को दोनेस्क और लुहान्स्क को स्वतंत्र देशों के रूप में मान्यता प्रदान की थी। रूसी हमले की ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा और यूरोपीय संघ देशों ने निंदा की और मास्को पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए थे। इन देशों ने रूस से लड़ने के लिए यूक्रेन को सैन्य सहायता के साथ ही अन्य मदद देने का भी वादा किया था। यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की ने एक हजार वर्ग किमी क्षेत्र पर फिर से नियंत्रण लेने और रविवार तक तीन हजार वर्ग किमी क्षेत्र पर फिर से कब्जे का दावा किया है। हालांकि अभी यूक्रेन के बडे़ हिस्से पर रूस ने कब्जा किया हुआ है। इसीलिए यूक्रेन पूरे क्षेत्र पर फिर नियंत्रण लेने का लक्ष्य लेकर चल रहा है।