Thursday, October 28, 2021
Homeन्यूज़इंटरनेशनलश्रीलंकाई नौसेना ने भारतीय मछुआरों पर किया हमला, क्षतिग्रस्त हुई 25 नौकाएं

श्रीलंकाई नौसेना ने भारतीय मछुआरों पर किया हमला, क्षतिग्रस्त हुई 25 नौकाएं

चेन्नई, 23 सितम्बर (आईएएनएस)। श्रीलंकाई नौसेना के जवानों ने बुधवार देर रात कच्चातीवु में भारतीय मछुआरों पर कथित रूप से हमला कर दिया और भारतीय मछुआरों की कम से कम 25 मछली पकड़ने वाली नौकाओं को क्षतिग्रस्त कर दिया।

तमिलनाडु मत्स्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि श्रीलंकाई नौसेना के जवानों ने भारतीय मछुआरों पर कांच की बोतलें और पत्थर फेंके। यह आरोप लगाया गया है कि श्रीलंकाई नौसेना के जवान 10 गश्ती नौकाओं में आए और उन्होंने मछली पकड़ने वाली नौकाओं को क्षतिग्रस्त कर दिया।

अधिकारियों ने कहा कि श्रीलंकाई नौसेना कर्मियों के कथित हमले में 40 नौकाओं में मछली पकड़ने के जाल भी क्षतिग्रस्त हो गए।

मछुआरा संघ के नेता एन. देवदास ने आईएएनएस को बताया, यह बहुत ही खेदजनक है और एक ऐसी स्थिति बन गई है कि तमिलनाडु तट के मछुआरे अपना व्यवसाय करने में सक्षम नहीं हैं। हमने पहले ही तमिलनाडु के मत्स्य विभाग में और स्थानीय पुलिस को भी शिकायत दर्ज कराई है। हमें सुरक्षा की आवश्यकता है, अन्यथा, हम मछली पकड़ने के लिए गहरे समुद्र में जाने में सक्षम नहीं हो पाएंगे।

एक विदेशी नौसेना द्वारा कथित हमले पर मछुआरों और तमिलनाडु मत्स्य विभाग के अधिकारियों द्वारा भारतीय तटरक्षक बल के अधिकारियों को घटनाक्रम से अवगत कराया गया है।

श्रीलंकाई नौसेना भारतीय मछुआरों और मछली पकड़ने वाली नौकाओं पर बार-बार हमले करती रही है। धनुषकोडी में तट पर पहले हुए हमले में श्रीलंकाई नौसेना के जवानों द्वारा भारतीय मछुआरों पर कांच की बोतलें और पत्थर फेंकने के बाद कई मछुआरे घायल हो गए थे।

कच्चातीवु श्रीलंका द्वारा प्रशासित एक 163 एकड़ निर्जन द्वीप है और दोनों देशों के बीच एक विवादित क्षेत्र है। 1974 में, तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भारत-श्रीलंका समुद्री समझौते के तहत श्रीलंका को द्वीप सौंप दिया। यह द्वीप श्रीलंका के नेदुन्थीवु और भारत के रामेश्वरम के बीच स्थित है।

समझौता भारतीय मछुआरों को द्वीप के आसपास मछली पकड़ने की अनुमति देता है और साथ ही उन्हें द्वीप पर अपने जाल सुखाने का अधिकार देता है। हालांकि, लंका में गृहयुद्ध के दौरान, समझौते के कारण कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, क्योंकि श्रीलंकाई नौसेना मछली पकड़ने वाली नौकाओं पर हमला करती थी, क्योंकि उन दिनों बड़े पैमाने पर हथियारों की तस्करी होती थी।

हालांकि, गृहयुद्ध की समाप्ति के बाद और हथियारों की तस्करी का कोई और खतरा नहीं होने के बावजूद, भारतीय मछुआरों के अनुसार, श्रीलंकाई नौसेना भारतीय मछुआरों पर हमला करना जारी रखे हुए है और उनकी नावों और जालों को नुकसान पहुंचाती है, जिससे उन्हें भारी वित्तीय नुकसान उठाना पड़ता है।

–आईएएनएस

एकेके/आरजेएस

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

लेटेस्ट न्यूज़

ट्रेंडिंग न्यूज़