वेस्ट में सबसे अधिक कैराना में मतदान तो सबसे कम साहिबाबाद में पड़े वोट

 
वेस्ट में सबसे अधिक कैराना में मतदान तो सबसे कम साहिबाबाद में पड़े वोट वेस्ट में सबसे अधिक कैराना में मतदान तो सबसे कम साहिबाबाद में पड़े वोट

मेरठ। UP Election Voting Percentage 2022 – 2022 के विधानसभा चुनाव के पहले चरण के 11 जिलों की 58 सीटों के लिए 10 फरवरी को वोट डाले गए। हालांकि इस बार मौसम भी मतदान के अनुकूल था। लेकिन इसके बावजूद भी मतदाताओं ने घर से निकलकर वोट डालने में कंजूसी दिखाई। इस बार पिछले चुनाव 2017 की अपेक्षा पहले चरण में 3.3 फीसदी कम मतदान हुआ। ये निर्वाचन आयेाग द्वारा जारी किए गए आंकड़े कह रहे हैं। यानी 2022 में मतदाताओं ने 3.3 फीसदी कम वोट डाला। 11 जिलांं की 58 सीटों के लिए 10 फरवरी को हुए मतदान में कुल 60.17 फीसदी ही मत पड़े। जबकि इससे पहले 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में वोटों का मत प्रतिशत इन्हीं सीटों पर 63.47 प्रतिशत रहा था। यानी 2017 की अपेक्षा 2022 में मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग करने में कम उत्साह दिखाया। तभी इस बार करीब 3.3 फीसदी कम मतदान हुआ। इस बार जिस जिले में सबसे अधिक वोट डाले गए उनमें शामली जिला शामिल है। शामली में इस बार 69.42 फीसदी लोगों ने अपने मत का उपयोग किया। मतदान वाले 11 जिलों में से 9 जिलों में 60 प्रतिशत या उससे अधिक मतदान हुआ। इन नौ जिलों में मेरठ मंडल के मेरठ सहित बागपत, हापुड, बुलंदशहर,सहारनपुर मंडल के मुजफ्फरनगर और शामली, अलीगढ़ मंडल के अलीगढ़ मथुरा और आगरा शामिल है। पहले चरण में कम मतदान वाले फिसडडी जिलों में गााजियाबाद और नोएडा शामिल है। गाजियाबाद में 54.77 फीसदी मतदान हुआ जबकि नोएडा में 56.73 फीसदी मत डाले गए।

Read also: यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण में एक बजे तक 35.3 प्रतिशत मतदान

कैराना में खूब दबे ईवीएम के बटन साहिबाबाद में दिखी सुस्ती :

शामली की कैराना में मतदाताओं ने वोट के दौरान खूब उत्साह दिखाया। कैराना में पहले चरण में सबसे अधिक रिकार्ड मत पड़े यहां पर 75.12 फीसद लोगों ने मतदान किया। जबकि 2017 में इसी कैराना के विधानसभा चुनाव में 69.53 फीसद मतदान हुआ था। गाजियाबाद की साहिबाबाद विधानसभा में सबसे कम मतदान हुआ। यहां पर 45 फीसद वोट पड़े। जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव में इसी सीट पर 49.12 फीसद वोट डाले गए थे। पहले चरण में मतदाताओं की सुविधा और कोरोना प्रोटोकाल को ध्यान में रखते हुए 10853 मतदान केंद्र में 26,027 पोलिंग बूथ बनाए थे। इनमें से 139 विंक बूथ थे जबकि 467 बूथों को आदर्श मतदान केंद्र बनाया गया था।