Site icon Buziness Bytes Hindi

CAA को छूने की हिम्मत न ममता में है और न कांग्रेस में: अमित शाह

amit shah

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को CAA और UCC मुद्दों पर तृणमूल कांग्रेस के नेतृत्व वाली पश्चिम बंगाल सरकार पर तीखा हमला बोला। सत्ता में आने पर सीएए को रद्द करने की ममता बनर्जी की टिप्पणियों पर शाह ने कहा न ही ममता बनर्जी सीएए को छूने की हिम्मत कर सकती हैं और न कांग्रेस। अमित शाह ने आरोप लगाया कि कांग्रेस और ममता बनर्जी सीएए के खिलाफ हैं क्योंकि वे घुसपैठियों की मदद करना चाहते हैं. ये लोग कानून का विरोध कर रहे हैं क्योंकि इससे हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता पाने में मदद मिलेगी।

केंद्र ने पिछले महीने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए), 2019 लागू किया था। इस कानून के संसद से पारित होने के चार साल बाद इससे जुड़े नियमों को अधिसूचित किया गया था. यह कानून पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से 31 दिसंबर 2014 से पहले बिना दस्तावेजों के भारत आए गैर-मुस्लिम प्रवासियों को फास्ट ट्रैक नागरिकता प्रदान करने के लिए बनाया गया था।

रायगंज में एक रैली में पश्चिम बंगाल से 35 लोकसभा सीटें जीतने की बात कहते हुए अमित शाह ने दावा किया कि केवल भाजपा ही राज्य में तृणमूल कांग्रेस के कुशासन को खत्म कर सकती है। मालदा में बीजेपी उम्मीदवार के समर्थन में उन्होंने कहा, कलकत्ता उच्च न्यायालय ने कल एक फैसला सुनाया, जिसमें हजारों नियुक्तियों (2016 शिक्षक भर्ती परीक्षा के माध्यम से की गई) को रद्द कर दिया गया। यह शर्म की बात है कि नौकरियां लाखों रुपये में बेची गईं। यह ‘कट-मनी’ है।” (कमीशन) संस्कृति और भ्रष्टाचार कभी नहीं रुकना चाहिए, केवल भाजपा ही इसे रोक सकती है।

अमित शाह ने दावा किया कि ममता बनर्जी नाक के नीचे वर्षों तक अत्याचार जारी रहा। तुष्टिकरण के जरिए कुछ वोट पाने के लिए संदेशखाली के अपराधियों को बचा रही हैं। ममता दीदी सीएए का विरोध कर रही हैं और शरणार्थियों को नागरिकता नहीं मिलने दे रही हैं। अगर आप घुसपैठ और भ्रष्टाचार रोकना चाहते हैं तो बीजेपी को वोट दें।

Exit mobile version