Vivo Company के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, पूर्व विवेचना अधिकारी पर गाज

मेरठ रीजनVivo Company के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, पूर्व विवेचना अधिकारी पर गाज

Date:

मेरठ। चीन की मोबाइल कंपनी विवो के खिलाफ एक बार फिर से मेरठ पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। इसी के साथ पूर्व में प्रकरण की जांच कर एफआर लगाने वाले पूर्व विवेचना अधिकारी पर भी गाज गिर गई है। पूर्व विवेचना अधिकारी को निलंबित करने के साथ ही उसका एक महीना काटने की संस्तुति एसएसपी मेरठ द्वारा की गई है। जिसके बाद एसएसपी मुजफ्फरनगर ने पूर्व विवेचना अधिकारी आशुतोष कुमार को निलंबित कर दिया है।

विवो मोबाइल प्रकरण में चार्जशीट दाखिल की जा चुकी है। इस मामले में पूर्व जांच अधिकारी पर गाज गिरी है। चार्जशीट में विवो कंपनी पर काफी गंभीर आरोप हैं। चार्जशीट अब सीओ कार्यालय में पहुंच चुकी है।

ये था मामला :—

एडीजी मेरठ आफिस में तैनात सब इंस्पेक्टर आशाराम ने विवो कंपनी का मोबाइल ठीक करने के लिए 24 सितंबर 2019 को इसके सर्विस सेंटर पर दिया था। मोबाइल ठीक हो गया था। लेकिन इसका आईएमइआई नंबर बदला हुआ था। सब इंस्पेक्टर की शिकायत पर एडीजी ने इस पूरे प्रकरण की जांच कराई तो चौकाने वाला खुलासा हुआ। विवो कंपनी के एक ही आईएमइआई नंबर पर हजार से अधिक मोबाइल फोन चलते पाए गए। रिपोर्ट में बताया कि 24 सितंबर 2019 को सुबह 11 से 11.30 के बीच पूरे देश में विवो कंपनी के एक ही मोबाइल आईएमइआई नंबर पर करीब 13,557 फोन नंबर एक्टिव थे। इस पूरे प्रकरण में पांच जून 2020 को मेडिकल कालेज थाने में विवो कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। इसकी विवेचना तत्कालीन एसएसपी अजय साहनी ने नौचंदी थाने तत्कालीन इंस्पेक्टर नौचंदी आशुतोष कुमार को दी।

इंस्पेक्टर ने अपनी विवेचना में आरोपी विवो कंपनी के खिलाफ जांच में लापरवाही बरती। विवेचक आशुतोष ने पांच अक्टूबर 2020 को कोर्ट में विवो कंपनी के पक्ष में एफआर दाखिल कर दी। पूरे मामले की गंभीरता को देखते हुए एडीजी राजीव सबरवाल ने इस प्रकरण की फिर से जांच के आदेश दिए। विवो कंपनी के खिलाफ इस पूरे मामले की विवेचना क्राइम ब्रांच को सौंपी गई। विवेचना में फोरेंसिक साक्ष्यों को आधार मानते हुए विवो कंपनी के खिलाफ गंभीर अपराध पाए गए। इसी आधार पर चार्जशीट तैयार की गई है। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि साक्ष्यों के आधार पर विवो कंपनी के खिलाफ चार्जशीट लगाई है। विवो कंपनी के पक्ष में साक्ष्यों को बिना जुटाए एफआर लगाने वाले इंस्पेक्टर की भूमिका की जांच की जा रही है।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

Sunny Leone की ये तस्वीरें देख उड़ जाएंगे होश!

एंटरटेनमेंट डेस्क। Sunny Leone अपनी हॉट अदाओं से लोगो...

Bilkees Bano Case: सुप्रीम कोर्ट के दरवाज़े पर फिर पहुंची बिलकीस

गुजरात दंगों के दौरान गैंग रेप पीड़िता बिलकीस बानो...

इंडिया कस्टमर सर्विस में MG लगातार दूसरे साल शीर्ष पायदान पर

भारत में बिक्री के बाद सलाहकारों की तरफ से...