Somvati Amavasya 2022: पितरो की शांति और तर्पण का आज सोमवती अमावस्या पर सर्वोत्तम योग

 
Dhram News

मेरठ। पितरो की शांति और तर्पण का आज सर्वोत्तम योग बन रहा है। इस दिन पितरो के लिए पूजा और तर्पण देने से उनको शांति मिलती है और वे अपना आर्शिवाद प्रदान करते हैं। आज मेरठ सहित पूरे देश में सोमवती अमावस्या मनाई जा रही है। जेठ महीने की अमावस्या को सोमवार के दिन पड़ने के कारण ही इसको सोमवती अमावस्या कहा जाता है। सोमवती अमावस्या के दिन आज खास संयोग बन रहा है। आज के दिन ही शनि जयंती भी पड़ रही है। यह करीब 48 साल बाद ऐसा हो रहा है जबकि सोमवती अमावस्या और शनि जयंती एक ही दिन पड़ रही है। आज सोमवार के साथ-साथ शनि जयंती के अलावा सर्वार्थ सिद्ध योग के साथ सुकर्मा योग भी बन रहा है।

Read also: Dharm: हनुमान चालीसा के हैं ये लाभ, नियमित करें हनुमान चालीसा

ज्योतिषशास्त्र की माने तो ऐसा संयोग 30 सालों बाद बन रहा है। जेठ महीने की अमावस्या के दिन वट सावित्री व्रत भी आज ही पड़ रहा है जिसमें सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु और स्वास्थ्य के लिए बरगद के पेड़ के नीचे पूजा करती हैं। अमावस्या तिथि का आरंभ 29 मई 2022 को दोपहर 2 बजकर 54 मिनट से शुरू हो गया है। जो कि आज सोमवार 30 मई 2022 को शाम 04 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। पूजा का अभिजीत मुहूर्त आज सुबह 11 बजकर 57 मिनट से शुरू होकर दोपहर 12 बजकर 50 मिनट तक रहेगा।