Tuesday, October 19, 2021
Homeइंस्टेंट आर्टिकल्सभारत के विभिन राज्यों में कैसे मनाई जाती है शारदीय नवरात्री, आइये...

भारत के विभिन राज्यों में कैसे मनाई जाती है शारदीय नवरात्री, आइये देखे नवरात्री में विभिन्न राज्यों के रंग

शारदीय नवरात्रि पूरे देश में कई तरह से मनाई जाती है। भारत विविधता के भीतर एकता को दर्शाने वाला देश है, और यहाँ के त्योहारों का इसमें विशेष योगदान है। नवरात्रि का त्यौहार भी भारत के लोगो में एक अलग जोश और उमंग भर देता है। यह त्यौहार देश के अनेक कोनो में मनाया जाता है और देवी दुर्गा की पूजा कर भक्तो द्वारा माँ का आशीर्वाद पाया जाता है। 2021 में नवरात्री की धूम कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक फैली हुई है। 

शारदीय नवरात्रि का उत्सव पूरे देश में शुरू हो गया हैं। देवी दुर्गा के नौ रूपों को समर्पित यह त्योहार पूरे देश में नौ दिनों तक बहुत भव्यता और धूमधाम से मनाया जाता है। दुनिया में COVID-19 की चुनौतियों अभी भी है, लेकिन नवरात्री का त्योहार मनाने के लिए लोगों में उत्साह की कमी नहीं हुई है। नवरात्री में देवी की सच्चे मन से पूजा के द्वारा दुनिया पर आई संकट का भी पूर्ण रूप से समापन हो सकता है और इसी उम्मीद के साथ लोगो में इस वर्ष नवरात्री की पूजा करने का अलग ही हर्ष है। 

इस साल, नवरात्रि 7 अक्टूबर से शुरू हुई और 15 अक्टूबर तक चलेगी। आइए भारत के अलग अलग राज्यों में नवरात्री मनाने के विविध तरीकों को देखें।

नवरात्री में विभिन्न राज्यों के रंग
Image Credit Naeem

Read also: नवरात्री के नौ रंग: जाने कौन से रंग है नौ दिनों में शुभ

भारत के पूर्वी राज्य पश्चिम बंगाल, बिहार, उड़ीसा, असम आदि में नवरात्री का जश्न

इन राज्यों में, नवरात्रि का असली रंग अंतिम के 4 दिनों में देखने को मिलता हैं – जिन्हें सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी कहा जाता है। पश्चिम बंगाल में, नवरात्रि को दुर्गा पूजा कहा जाता है और यह राज्य के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। बड़े पंडाल, बड़ी-बड़ी दुर्गा की मूर्तियाँ, थीम वाले पंडाल शहर को सुशोभित करते हैं, जो रोशनी और रंगों से सज्जित होते है। बंगाली संस्कृति में नए कपड़े पहनना और पंडाल में घूमना एक परंपरा है। बंगाली महिलाएं आमतौर पर पारंपरिक सफेद और लाल रंग की साड़िया पहनती हैं।

पंजाब में कैसा होता है नवरात्री का जश्न

पंजाब में भी नवरात्री का एक अलग ही रंग देखने को मिलता है। यहां भक्त पहले 7 दिनों तक उपवास रखते है और माता की बड़े धूम धाम से पूजा करते है एवं जगराते भी रखते है। नवरात्री के अंतिम दो दिनों में नौ छोटी कन्याओ और एक लड़के को कंजकें खिलाते है अर्थात उनकी पूजा करते है और अपना उपवास तोड़ते हैं। इसे कांजिका भी कहा जाता है। पंजाब में लोग पूरी रात जागकर माँ दुर्गा की पूजा करते हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्ति करते है ।

नवरात्री में विभिन्न राज्यों के रंग
Image Credit Naeem

गुजरात की नवरात्री

नवरात्रि गुजरात का प्रमुख त्यौहार है, जहां भक्त 9 दिनों तक उपवास रखते हैं और मां के सभी शक्तिशाली रूपों की पूजा करते हैं। शाम को, छेद वाले मिट्टी के बर्तन के अंदर दीयों को जलाया जाता है। इन दियो को गरबि कहा जाता है जिन्हे जलाकर महिलाएं आरती करती हैं। गुजरात का पारंपरिक नृत्य, गरबा और डांडिया रास की चमक नवरात्रि के दिनों में बढ़ जाती है। पुरुष और महिलाए दोनों ही नवरात्री के दिनों में गरबा और डांडिया खेलते है। 

Read also: Navratri 2021: प्रेग्‍नेंसी में नवरात्र का व्रत रखना है तो यहां दिए गए टिप्स आएंगे काम!

तमिलनाडु में कैसे मनाई जाती है नवरात्री

इस राज्य में नवरात्री के त्यौहार की चमक तीन दिनों में विशेष दिखती है जिसमे देवी दुर्गा, देवी सरस्वती और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। तमिलनाडु के उत्सवों का सबसे दिलचस्प हिस्सा कोलू की सजावट है जो एक 9-चरणीय सीढ़ी है। सीधी का प्रत्येक चरण त्योहार के प्रत्येक दिन का प्रतिनिधित्व करता है। सीढ़ियों को देवी-देवताओं की छोटी प्रतिमाओं द्वारा सजाया जाता है जो भक्तों द्वारा पूजा जाता है। 

नवरात्री में विभिन्न राज्यों के रंग
Image Credit Naeem

महाराष्ट्र की नवरात्री

इस राज्य में गुजरात के समान ही नवरात्रि मनाई जाती है। नवरात्रि का अर्थ महाराष्ट्रियों के लिए नई शुरुआत है, और इसीलिए इस त्यौहार में लोग नई चीज़ो की खरीदारी करते है। विवाहित महिलाएं सौमंगलम करती हैं जिसमे महिलाओ की टोलियो को आमंत्रित किया जाता हैं और वे एक दूसरे के माथे पर हल्दी और कुमकुम लगाती हैं और उन्हें सुपारी, नारियल और फल उपहार में देती हैं। यह एक प्रकार की मराठी प्रथा है और नवरात्री के नौ दिनों के दौरान महाराष्ट्रीयन पुरुष और महिलाएं गरबा और डांडिया खेलते हुए इस त्यौहार को और भी आकर्षित बनाते हैं।

हिमाचल प्रदेश की पहाड़ी नवरात्री

इस राज्य में नवरात्री को लेकर दिलचस्प बात यह है कि हिमाचल प्रदेश दसवें दिन नवरात्रि का उत्सव शुरू करता है, जब अन्य राज्यों के उत्सव समाप्त होते हैं। इस राज्य में दसवें दिन कुल्लू दशहरा का त्यौहार मनाया जाता हैं जिस दिन हिमाचल प्रदेश के लोग भगवान राम की अयोध्या वापसी का जश्न मानते है। हिमाचल प्रदेश में नवरात्री के दसवे दिन मंदिरों को भव्य रूप से दियो और लाइटों से सजाया जाता है एवं मंदिरो से मूर्तियों का एक विशेष जुलूस निकाला जाता है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

लेटेस्ट न्यूज़

ट्रेंडिंग न्यूज़