गणेश चतुर्थी 2022: विध्नहरण गणपति को प्रसन्न करने के लिए किए ये उपाय से बरसेगी कृपा

 
Ganesh Chaturthi Remedies

31 अगस्त बुधवार को शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। धर्म ग्रंथों के मुताबिक इस दिन को भगवान श्रीगणेश का प्राकट्य माना गया है। भगवान श्रीगणेश को प्रसन्न करने के लिए व्रत व पूजन किया जाता है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस दिन कुछ विशेष उपाय किए जाएं तो भगवान श्रीगणेश भक्तों पर प्रसन्न होकर उनकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। इस विशेष अवसर का लाभ उठाना चाहते हैं तो ये उपाय विधि-विधान पूर्वक करें। गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश का अभिषेक करने से विशेष लाभ मिलता है। इस दिन आप शुद्ध पानी से श्रीगणेश का अभिषेक करें। इसी के साथ गणपति अथर्व शीर्ष का पाठ करें। बाद में मावा लड्डुओं का भोग लगाकर भक्तों में बांट दें।

गणेश यंत्र चमत्कारी यंत्र है। गणेश चतुर्थी पर घर में इसकी स्थापना करें। इस यंत्र की स्थापना पूजन से बहुत लाभ होता है। यंत्र के घर में रहने से किसी प्रकार की बुरी शक्ति का घर में प्रवेश नहीं हो पाता।  अगर जीवन में परेशानियां हैं तो गणेश चतुर्थी को हाथी को हरा चारा खिलाएं और गणेश मंदिर जाकर अपनी परेशानियों का निदान करने को प्रार्थना करें। इससे जीवन की परेशानियां दूर हो सकती हैं। अगर धन की इच्छा है तो इसके लिए गणेश चतुर्थी को सुबह स्नान आदि करने के बाद श्रीगणेश को शुद्ध घी और गुड़ का भोग लगाएं। थोड़ी देर बाद घी व गुड़ गाय को खिला दें। ये उपाय करने से धन संबंधी समस्या समाप्त हो सकती है। गणेश चतुर्थी के दिन सुबह स्नान आदि करने के बाद किसी गणेश मंदिर में जाएं और भगवान श्रीगणेश को 21 गुड़ की गोलियां बनाकर दूर्वा के साथ चढ़ाएं। इस उपाय से भगवान हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं ।

Read also: Ganesh Chaturthi Chandra Darshan Dosh: गणेश चतुर्थी पर भूलकर भी ना करें चंद्रमा के दर्शन, चंद्र दर्शन कलंक निवारण के उपाय

गणेश चतुर्थी पर पीले रंग की गणेश प्रतिमा घर में स्थापित कर पूजा करें। पूजन में श्रीगणेश को हल्दी की पांच गाठ श्री गणाधिपतये नमः मंत्र का उच्चारण करके चढ़ाएं। इसके बाद 108 दूर्वा पर गीली हल्दी लगाकर श्री गजवकत्रम नमो नमः जप करके चढ़ाएं। यह उपाय लगातार 10 दिन तक करने से प्रमोशन की संभावनाएं बढ़ सकती हैं। गणेश चतुर्थी पर किसी भी गणेश मंदिर में जाकर दर्शन करने के बाद इच्छा के अनुसार गरीबों को दान करें। दान के बाद दक्षिणा यानी कुछ रुपए दें। दान से पुण्य की प्राप्ति होती है और श्रीगणेश अपने भक्तों पर प्रसन्न होते हैं। यदि बेटी का विवाह नहीं हो पा रहा है तो गणेश चतुर्थी पर विवाह की कामना से भगवान श्रीगणेश को मालपुए का भोग लगाकर व्रत रखें। शीघ्र ही बेटी के विवाह के योग बन सकते हैं।

गणेश चतुर्थी के दिन दूर्वा के गणेश बनाकर उनकी पूजा करें। मोदक, गुड़, फल, मावा आदि अर्पण करें। ऐसा करने से गणेश सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। लड़के के विवाह में परेशानियां आ रही हैं तो गणेश चतुर्थी पर श्रीगणेश को पीले रंग की मिठाई का भोग लगाएं। इससे बेटे के विवाह के योग बन सकते हैं। गणेश चतुर्थी पर व्रत रखें। शाम के समय घर में गणपति अर्थवशीर्ष का पाठ करें। भगवान श्रीगणेश को तिल के लड्डुओं का भोग लगाएं। प्रसाद से व्रत खोलें और श्रीगणेश से मनोकामना पूर्ति के लिए प्रार्थना करें।