depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

Ind vs Aus: सवा दो दिन में इंदौर टेस्ट ख़त्म, 9 विकेट से हारा भारत

फीचर्डInd vs Aus: सवा दो दिन में इंदौर टेस्ट ख़त्म, 9 विकेट...

Date:

उम्मीद के मुताबिक इंदौर टेस्ट भी सवा दो दिन में समाप्त हो गया. खेल के तीसरे दिन कोई ड्रामा नहीं हुआ, कोई कोलैप्स नहीं हुआ और कंगारुओं ने आसानी एक विकेट खोकर जीत का लक्ष्य हासिल कर लिया। हालाँकि आज के दिन की शुरुआत ड्रामाई अंदाज़ में ही हुई थी. दिन की दूसरी ही गेंद पर अश्विन ने ख्वाजा को आउट करके थोड़ी ख़ुशी ज़रूर दी थी लेकिन फिर ट्रेविस हेड और लाबुषाने ने आगे स्थिति पर काबू पा लिया और आसानी से 9 विकेट से मैच जीतकर श्रंखला में वापसी की, इस जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने आधिकारिक रूप से ICC टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल के लिए भी क्वालीफाई कर लिया। वहीँ भारत का इंतज़ार WTC फाइनल के लिए बढ़ गया, इसके लिए उसे अब अहमदाबाद टेस्ट जीतना होगा।

अहमदाबाद में कैसी होगी पिच

अब बड़ा सवाल यह कि अगले गुरुवार से अहमदाबाद में क्या होता है? क्या वहां हरी घासवाली पिच मिलेगी या फिर एकबार फिर पिछले तीनों टेस्ट मैचों वाली पिच पर ही द्रविड़ और रोहित भरोसा करेंगे। वैसे भारत के खिलाफ नतीजा आने के बाद पिच में थोड़ा फेरबदल के लिए तीन दिन का एक्स्ट्रा समय मिल गया है. आज नतीजे के बाद पिच को लेकर उन लोगों के सुर भी थोड़ा बदल गए हैं जो अबतक खुश नज़र आ रहे थे, आज हरभजन सिंह ने भी कहा कि टेस्ट मैच को पांच दिन चलना चाहिए, सवा दो दिन में टेस्ट मैच ख़त्म होने लगेंगे तो क्रिकेट को काफी नुक्सान होगा।

रोहित को दिखने लगी कमियां

मैच हारने के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने बढ़िया बात की, रोहित ने कहा कि जब आप मैच हारते हैं तो कमियां नज़र आने लगती हैं. रोहित की बात सही है, पहले दो टेस्ट मैच भारत ने जीते इसलिए उन तमाम कमियों पर कोई बात नहीं की गयी जिनपर की जानी चाहिए थी, आप हर बार अपने आल राउंडर्स से रनों की अपेक्षा नहीं कर सकते, पिछले दो टेस्ट मैचों में भारत को जीत मिली इसके लिए गेंदबाज़ों को सेहरा मिलना ही चाहिए लेकिन उससे महत्वपूर्ण इन्हीं आल राउंडर्स की बल्लेबाज़ी रही जिन्होंने दोनों ही टेस्ट मैचों में भारत की बल्लेबाज़ी को संभाला, वरना नतीजा 2-1 की जगह 1-2 भी हो सकता था.

टीम इंडिया के लिए सबक है ये हार

बहरहाल भारत की यह हार उसके लिए बहुत बड़ा सबक है. टीम का संतुलन बहुत ज़रूरी होता है, दो पक्ष होते हैं गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी। एक पक्ष हल्का होने से संतुलन बिगड़ता है. गेंदबाज़ों ने पिछले तीन मैचों में बहुत कुछ करके दिखा दिया है, ज़रुरत है बल्लेबाज़ों द्वारा कुछ कर दिखाने की. यही वही बल्लेबाज़ी है जिसने ऑस्ट्रेलिया में जाकर झंडे गाड़े थे लेकिन अपनी ही धरती पर और वो भी स्पिनरों के सामने घुटने टेके हुए हुए है, हैरानी होती है न.

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

मोदी के मुस्लिम लीग वाले बयान पर श्रीनेत का पलटवार

कांग्रेस पार्टी ने जबसे न्याय पत्र के रूप में...

हाईकोर्ट से निराश केजरीवाल पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

अपनी गिरफ़्तारी पर दिल्ली हाईकोर्ट से कोई राहत न...

मोदी की रैलियों में जयंत की उपेक्षा, अखिलेश ने मारा तंज़

पिछले विधानसभा चुनाव में एक साथ नज़र आने वाले...

Bournvita को हेल्थ ड्रिंक सेक्शन से हटाने का निर्देश

Bournvita और दुसरे ब्रांडों को एक बड़ा झटका देते...