depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

बैंकों की घटेगी आय, जलवायु परिस्थिति से बढ़ेगा महंगाई का जोखिम

नेशनलबैंकों की घटेगी आय, जलवायु परिस्थिति से बढ़ेगा महंगाई का जोखिम

Date:

नई दिल्ली। बैंकों की आय में कमी के संकेत मिल रहे हैं। ऐसा अर्थजगत के जानकारों का कहना है। बाजार में छाई मंदी का असर बैंकों की आय पर भी पड़ेगा। हालांकि बैंकों ने ब्याज दर में वृद्धि की है और लोन की ब्याज दरें नहीं बढ़ाई है। ऐसा सिर्फ अपनी आय में वृद्धि के लिए किया है। लेकिन मंदी के चलते लोग किसी भी योजना में निवेश लगाने की स्थिति में नहीं हैं। जानकारों के मुताबिक बाजारों का हाल बुरा है। व्यापारी घाटे और करों के बोझ से दबे हुए हैं।

आरबीआई का कहना है कि जब तक महंगाई संतोषजनक दायरे में नहीं आती है, तब तक इसके खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी। रबी फसल का उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने का अनुमान है। इससे खाने-पीने की वस्तुओं की कीमतों में नरमी आएगी। हालांकि, पशुचारे के दाम बढ़ने से गर्मियों में दूध के दाम ऊंचे स्तर पर बने रहेंगे। प्रतिकूल जलवायु परिस्थितियां भविष्य में महंगाई के लिए जोखिम पैदा कर सकती हैं। अंतरराष्ट्रीय वित्तीय बाजार में बढ़ती अनिश्चितता और आयातित महंगाई दबाव पर भी नजदीकी नजर रखने की जरूरत है।

पहली तिमाही से राहत संभव

खुदरा महंगाई के मोर्चे पर 2023-24 की पहली तिमाही से राहत मिल सकती है। आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष के लिए खुदरा महंगाई के अनुमान को घटाकर 5.2 फीसदी कर दिया है। केंद्रीय बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास का कहना है कि अगर कच्चे तेल की कीमत औसतन 85 डॉलर प्रति बैरल पर रहती है तो चालू वित्त वर्ष में खुदरा महंगाई 5.2 फीसदी रहेगी। पहली तिमाही में यह 5.1 फीसदी रह सकती है। दूसरी एवं तीसरी तिमाही में यह थोड़ी बढ़कर 5.4 फीसदी पर पहुंच सकती है, जबकि चौथी तिमाही में घटकर 5.2 फीसदी रह सकती है।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

गोता लगाकर ऊपर आया शेयर बाज़ार

आम बजट पेश होने से एक दिन पहले शेयर...

बजट 2024: स्वास्थ्य क्षेत्र की उम्मीद भरी नज़रें वित्त मंत्री पर

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 23 जुलाई को आम बजट...

महाराष्ट्र: एनसीपी में भगदड़ का दौर शुरू, चार नेताओं का इस्तीफ़ा

महाराष्ट्र के पिंपरी चिंचवाड़ में अजित पवार की राष्ट्रवादी...