Breast Cancer के सस्ते इलाज के लिए Fujifilm India ने डॉ. ओ.पी. गुप्ता इमेजिंग सेंटर मेरठ से मिलाया हाथ

 
cheap treatment of breast cancer

महिलाओं में स्तन कैंसर की बीमारी पूरी दुनिया में एक बड़ी समस्या है, स्तन कैंसर के मामले भी काफी बढ़ रहे हैं, भारत भी इस बीमारी से अछूता नहीं है, जागरूकता की कमी महिलाओं में यह बीमारी जड़ पकड़ती जा रही है. इस बीमारी के प्रति महिलाओं में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से मेरठ में  फुजीफिल्म इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और डॉ. ओ.पी. गुप्ता इमेजिंग सेंटर, मेरठ ने एक साझा कार्यक्रम का आयोजन किया। 

फुजीफिल्म इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने अपनी अत्याधुनिक एमुलेट इनोवैलिटी को डॉ. ओ.पी. गुप्ता इमेजिंग सेंटर के साथ साझेदारी के रूप में स्थापित किया है, एमुलेट इनोवैलिटी एक अत्यधिक उन्नत स्तन कैंसर निदान उपकरण है जो महिलाओं को स्तन कैंसर का जल्द पता लगाने में सक्षम बनाता है।  प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए, कंपनी ने डिजिटल मैमोग्राफी स्तन इमेजिंग में मुख्य समस्याओं और संभावित समाधानों को लोगों के सामने रखते हुए एक सेमिनार का आयोजन किया, सेमिनार में प्रौद्योगिकी की नैदानिक प्रासंगिकता पर भी प्रकाश डाला।

फुजीफिल्म इंडिया के कार्यकारी उपाध्यक्ष और चिकित्सा प्रभाग के प्रमुख, चंद्रशेखर सिब्बल ने इस अवसर पर अपने सम्बोधन में कहा कि स्तन कैंसर की प्रारंभिक पहचान, उपचार और बेहतर देखभाल स्तन कैंसर को अधिक फैलने से रोकने में मदद कर सकती है। उन्होंने कहा कि देश भर में फुजीफिल्म स्तन कैंसर की प्रारंभिक जांच को बढ़ावा देने और उसके निवारण में मदद करके पीड़ित महिलाओं के लिए समाधान विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने डॉ. ओपी गुप्ता इमेजिंग सेंटर के साथ जुड़ने पर ख़ुशी जताते हुए कहा कि हमारा लक्ष्य सामाजिक रूप से जिम्मेदार ब्रांड होने की अपनी प्रतिबद्धता को और मज़बूत करना है। हम भारत में सस्ती कीमत पर स्तन कैंसर के इलाज के लिए प्रतिबद्ध है. 

वहीँ डॉ ओपी गुप्ता, निदेशक, डॉ ओपी गुप्ता इमेजिंग सेंटर मेरठ ने बताया कि मैमोग्राम जीवन बचाने में मदद कर सकता है। मैमोग्राम हर कैंसर का पता भले ही नहीं लगा सकते, लेकिन वे प्रारंभिक अवस्था में स्तन कैंसर का पता लगाने में ज़रूर मदद कर सकते हैं। इससे प्रारंभिक उपचार, विकल्प और जीवित रहने की बेहतर संभावना हो सकती है। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार, मैमोग्राम से महिलाओं में स्तन कैंसर से होने वाली मृत्यु दर को लगभग 20% तक कम करने में मदद मिलती है।