Site icon Buziness Bytes Hindi

FIH Men’s Hockey WC: बहुत मुश्किल है आगे भारत की राह

india

FIH मेंस हॉकी वर्ल्ड कप का लीग राउंड पूरा हो चूका है. अंतिम आठ की लड़ाई के लिए अभी चार टीमों ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, नीदरलैंड और इंग्लैंड ने सीधे क्वालीफाई कर लिया है. अब शेष चार टीमों के लिए क्रॉस ओवर मैच खेले जायेंगे जहाँ एक पूल की दूसरे नंबर की और दूसरे पूल की तीसरे नंबर की टीम के बीच मुकाबले होंगे और उनके विजेता क्वार्टर फाइनल में पहुंचेंगे। इस बार के नए फॉर्मेट ने टीमों की चुनौतियों को बढ़ा दिया है. यहाँ पर तीसरे नंबर की टीम को फायदा मिलता दिख रहा है जो लीग राउंड में खराब प्रदर्शन के बाद भी अंतिम आठ में पहुँच सकती हैं.

एक्स्ट्राआर्डिनरी खेल दिखाना होगा

भारत को क्वार्टर फाइनल में पहुँचने के लिए 22 जनवरी को न्यूज़ीलैण्ड की टीम से भिड़ना होगा। यह नहीं, अगर उसने न्यूज़ीलैण्ड को पीछे छोड़ भी दिया तो क्वार्टर फाइनल में उसे चैम्पियन बेल्जियम से भिड़ना होगा, यानी उसके लिए आने वाले मैचों में काफी दिक्कतें आती दिखाई दे रही है, सेमीफाइनल या फाइनल तक पहुँचने के लिए उसको एक्स्ट्राआर्डिनरी खेल दिखाना होगा, भारत ने लीग में दो मैच जीतकर सात पॉइंट बनाये लेकिन गोल स्कोर करने में ज़्यादा कामयाबी नहीं हासिल की. क्वार्टर फाइनल में जो चार टीमें सीधे पहुंची है उन सबने कम से कम एक मैच बड़े मार्जिन से जीता जिसकी वजह से गोल अंतर उनका बड़ा रहा.

अभी तक नहीं दिखा चैंपियन वाला पैनापन

पूल A की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया ने 20 गोल दागे और उनके खिलाफ सिर्फ 5 गोल हुए. पूल B में बेल्जियम ने 14 गोल किये और सिर्फ तीन गोल खाये, पूल C में नीदरलैंड ने गोलों की बौछार कर दी और तीन मैचों में 22 गोल ठोंक दिए, जिसमें चिली के खिलाफ 14-0 की जीत भी शामिल है जो विश्व कप के इतिहास की सबसे बड़ी जीत भी है, उसके खिलाफ एक भी गोल स्कोर नहीं हुआ. वहीँ पूल D जिसमें भारत था इंग्लैंड ने 9 गोल किये और उसके खिलाफ भी कोई गोल नहीं हुआ. कहने का मतलब भारतीय हॉकी टीम में कम से कम अभी तक वो पैनापन नहीं दिखा जो एक चैंपियन बनने वाली टीम में दिखना चाहिए।

बेल्जियम बड़ी समस्या

हालाँकि लीग दौर में प्रदर्शन को देखें तो न्यूज़ीलैण्ड पर भारतीय टीम भारी पड़ती है, लेकिन समस्या क्वार्टर फाइनल में दिख रही है. क्रॉसओवर मैचों की जहाँ तक बात है तो 22 जनवरी को ही मलेशिया और स्पेन के बीच मैच होगा। 23 जनवरी को जर्मनी और फ्रांस व अर्जेंटीना और कोरिया के बीच टक्कर होगी। इसके बाद 24 जनवरी से क्वार्टर फाइनल मुकाबले खेले जायेंगे।

Exit mobile version