depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

किम्स हॉस्पिटल्स, हैदराबाद के डॉक्टरों ने एक कोविड-19 पॉजिटिव मरीज पर भारत का पहला डबल लंग ट्रांसप्लांट किया

प्रेस रिलीज़किम्स हॉस्पिटल्स, हैदराबाद के डॉक्टरों ने एक कोविड-19 पॉजिटिव मरीज पर भारत...

Date:


किम्स हॉस्पिटल्स, हैदराबाद के डॉक्टरों ने एक कोविड-19 पॉजिटिव मरीज पर भारत का पहला डबल लंग ट्रांसप्लांट किया

नई दिल्ली : भारत के प्रमुख स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं में से एक कृष्णा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (किम्स) के डॉक्टरों ने एक कोविड -19 पॉजिटिव मरीज पर भारत का पहला डबल लंग ट्रांसप्लांट सर्जरी सफलतापूर्वक पूरा किया, जिसे शुक्रवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। यह सर्जरी हैदराबाद स्थित अस्पताल की मुख्य शाखा में की गई, और इस सर्जरी को डॉ. संदीप अटावर ने लीड किया, जिन्हें भारत में हार्ट और लंग ट्रांसप्लांट सर्जरी में एक अग्रणी माना जाता है।

मरीज, रिजवान (मोनू), चंडीगढ़, पंजाब का 32 वर्षीय व्यक्ति सारकॉइडोसिस से पीड़ित था, जिसकी वजह से उसके फेफड़े काफी हद तक ख़राब हो चुके थे, और फेफड़ों में फाइब्रोसिस हो गया था। मरीज की हालत तेजी से बिगड़ती गई। इलाज के लिए डबल लंग ट्रांसप्लांट एकमात्र स्थायी विकल्प था। स्थिति तब और खराब हो गई जब मरीज डबल लंग ट्रांसप्लांट का इंतजार करते हुए कोरोनावायरस से ग्रस्त हो गया। इससे हालत और बिगड़ गई क्योंकि इसकी वजह से पिछले 8 हफ्तों से उसकी ऑक्सीजन की जरूरत 15 लीटर / मिनट से बढ़कर 50 लीटर / मिनट हो गई थी।

सर्जरी पर टिप्पणी करते हुए, डॉ. संदीप अटावर, थोरैसिक ऑर्गन ट्रांसप्लांटेशन सर्जन, किम्स हार्ट एंड लंग ट्रांसप्लांट इंस्टीट्यूट, किम्स हॉस्पिटल्स ने कहा, “मरीज फेफड़े के सारकॉइडोसिस का एक गंभीर मामला था, और कोविड -19 वायरस ने फेफड़ों की इस जोखिमी हालत को और भी गंभीर बना दिया। सौभाग्य से, कोलकाता में ब्रेन डेड घोषित एक व्यक्ति में उनके फेफड़ों का एक मैच मिल गया और मरीज का जीवन बचाने के लिए हार्वेस्ट किए हुए फेफड़े को हवाई रास्ते से हैदराबाद लाया गया। सर्जरी की प्रक्रिया जटिल थी और गलतियों की भी थोड़ी गुंजाइश थी; और केवल समय पर फेफड़ों के ट्रांसप्लांट से ही मरीज को बचाने में मदद मिली। अधिक महत्वपूर्ण यह है कि ऐसी सर्जरी से अच्छे नतीजे पाना मुश्किल होता है क्योंकि मरीज ट्रांसप्लांट से पहले बेहद बीमार, कुपोषित और बिस्तर पर पड़े होते हैं। डिस्चार्ज होने के बाद, कम से कम 6 सप्ताह के लिए उनपर करीब से नज़र रखने, बायो बबल वातावरण में रखने और सावधानीपूर्वक दवा नियंत्रण करने की आवश्यकता होगी।

डॉ. संदीप अटावर, देश के सबसे अनुभवी हार्ट और लंग ट्रांसप्लांट सर्जन हैं। डॉ. अटावर, 24 से भी अधिक साल के अनुभव के साथ ट्रांसप्लांट सर्जरी के क्षेत्र में एक अनुभवी डॉक्टर रहे हैं और अब तक 12,000 से अधिक हार्ट सर्जरियाँ की हैं और उन्हें 250 से अधिक लंग, हार्ट ट्रांसप्लांट सर्जरी और आर्टिफीसियल हार्ट इम्प्लान्ट्स (एलवीवीएडी) का श्रेय जाता है।

दुनिया भर में और भारत में जारी परिदृश्य रोगियों को लंबे समय तक घर के अंदर रहने के लिए मजबूर कर रहा है। जबकि लोग कुछ बीमारियों की उपेक्षा / अनदेखा कर रहे हैं और सही समय पर इलाज नहीं करवा रहे हैं, लेकिन लंबे समय तक बीमारियों को अनदेखा करने से बीमारी और भी गंभीर बन सकती है। इसलिए, यह सुझाव दिया जाता है कि लोग संभावित बीमारियों के लक्षणों से अवगत रहें, और सही समय पर इनका इलाज करवाएं।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

गौरव गोगोई को कांग्रेस ने लोकसभा में सौंपी बड़ी ज़िम्मेदारी

कांग्रेस ने गौरव गोगोई को लोकसभा में पार्टी का...

उपचुनाव के नतीजे मोदी-शाह की गिरती विश्वसनीयता का सबूत

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने शनिवार को कहा कि...

योगी के खिलाफ क्या पक रही है कोई खिचड़ी?

अमित बिश्नोईसरकार संगठन से बड़ी कभी नहीं हो सकती।...