depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

दिनेश प्रताप का चैलेन्ज, रायबरेली से कोई भी गाँधी आये, हार तय

उत्तर प्रदेशदिनेश प्रताप का चैलेन्ज, रायबरेली से कोई भी गाँधी आये, हार तय

Date:

कांग्रेस ने जहां रायबरेली से अपने उम्मीदवार पर अभी तक सस्पेंस बरकरार रखा है, वहीं भाजपा ने गुरुवार को आगामी लोकसभा चुनाव के लिए इस सीट से दिनेश प्रताप सिंह को मैदान में उतारा है। इस सीट पर पांचवें चरण में 20 मई को मतदान होगा। दिनेश प्रताप सिंह एमएलसी है और उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ कैबिनेट में मंत्री हैं।

रायबरेली से उम्मीदवारी की घोषणा के बाद दिनेश प्रताप सिंह ने कहा कि रायबरेली से ‘फर्जी’ गांधी परिवार की ‘विदाई’ तय है और बीजेपी का ‘कमल’ खिलना निश्चित है. दिनेश प्रताप सिंह ने कहा कि मैंने 4 बार की सांसद सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा है। मेरे लिए प्रियंका या राहुल गांधी महत्वपूर्ण नहीं हैं। कोई गांधी रायबरेली आएगा वो हार के जायेगा।

रायबरेली को कांग्रेस पार्टी का गढ़ कहा जाता है, कम से कम लोकसभा में तो उसे कोई भी पार्टी टक्कर नहीं दे पाती, 2019 में भी जब देश पीएम मोदी का डंका बज रहा था , सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवामा कांड की लहर चल रही थी तब भी भाजपा उम्मीदवार दिनेश सिंह को सोनिया गांधी के हाथों 1.6 लाख वोटों से चुनाव हारना पड़ा था.

रायबरेली के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 3 मई है. कांग्रेस ने कहा था कि वह आज देर रात अपने उम्मीदवार की घोषणा कर सकती है. सोनिया गांधी ने पहली बार 2004 में इस निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा और 2024 तक लोकसभा में इसका प्रतिनिधित्व किया, जब वह राज्यसभा में चली गईं। इससे पहले फ़िरोज़ गाँधी और इंदिरा गांधी दोनों ने रायबरेली का प्रतिनिधित्व किया है। कल यहाँ नामांकन का अंतिम है, कहा जा रहा है कि आज रात तक कांग्रेस पार्टी भी सस्पेंस पर से पर्दा हटा देगी।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

22 जुलाई को पेश हो सकता है आम बजट

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद के मानसून सत्र के...

NEET विवाद: दोषी मिलने पर बख्शे नहीं जायेंगे NTA उच्च अधिकारी

नीट विवाद पर बोलते हुए केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र...

टी 20 विश्व कप: पार्टी तो अब शुरू होने वाली है

अमित बिश्नोईटी 20 विश्व कप का लीग चरण पूरा...