depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

सीएसआईआर-सीडीआरआई और सिप्ला फाउंडेशन ने एक विशिष्ट अनुसंधान और आउटरीच पहल हेतु की साझेदारी

प्रेस रिलीज़सीएसआईआर-सीडीआरआई और सिप्ला फाउंडेशन ने एक विशिष्ट अनुसंधान और आउटरीच पहल हेतु...

Date:


सीएसआईआर-सीडीआरआई और सिप्ला फाउंडेशन ने एक विशिष्ट अनुसंधान और आउटरीच पहल हेतु की साझेदारी

लखनऊ: सिप्ला लिमिटेड की कॉर्पोरेट सोशल रिस्पोन्सिबिलिटी (सीएसआर) शाखा सिप्ला फाउंडेशन और लखनऊ स्थित सीएसआईआर-सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीडीआरआई) ने आज सीडीआरआई में कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व परियोजना को लागू करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। वैज्ञानिक शिक्षण और अनुसंधान को बढ़ावा देने के अपने निरंतर प्रयासों के साथ, सिप्ला फाउंडेशन इस सीएसआर परियोजना हेतु सहयोग करेगा। परियोजना के उद्देश्य एंटिमाइक्रोबियल रेजिस्टेन्स (एएमआर) एवं कैंसर के लिए नवीन रासायनिक घटकों (न्यू केमिकल एंटिटीज या एनसीई) के विकास पर ध्यान केंद्रित करना और अनुसंधान गतिविधियों के प्रति सामाजिक सरोकार बढ़ाने हेतु स्कूल एवं कॉलेज के छात्रों, शिक्षकों एवं विशेष समुदायों के माध्यम से विज्ञान आउटरीच कार्यक्रमों को बढ़ावा देना है।

यह अपनी तरह की पहली शोध आधारित आउटरीच पहल है, जो एक प्रमुख स्वदेशी फार्मा कंपनी “सिप्ला फाउंडेशन” के कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) शाखा के सहयोग से प्रारम्भ की गई है। यह पहल, भारतीय कंपनियों के अनुसूची VII के 2013 के खंड IX के माध्यम से विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और चिकित्सा के लिए अनुसंधान में CSR के तहत कॉरपोरेट फंडिंग बनाने के लिए भारत सरकार के हालिया प्रावधान के लिए अपनी उत्पत्ति का श्रेय देती है।

इस अवसर पर, निदेशक, सीएसआईआर-सीडीआरआई, प्रोफेसर तापस के कुंडू ने कहा कि “सीएसआईआर-सीडीआरआई” देश का प्रमुख ड्रग डिस्कवरी एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट है और सिप्ला फाउंडेशन अफोर्डेबल हेल्थ केयर उत्पादों के विकास पर ध्यान केंद्रित करना चाहता है और विज्ञान की गतिविधियों को बढ़ावा देना चाहता है। इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य परस्पर सहयोग द्वारा मिलकर समाज के वंचितों और उपेक्षित वर्गों को लाभ पहुंचाना है ।
यह परियोजना, कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के उद्योग-अकादमिक सहयोग को बढ़ावा देने के दिशानिर्देशों को लिए मजबूत करने की दिशा में एक कदम है। इस संभावित सहयोग के बारे में बोलते हुए, सिप्ला फाउंडेशन हेड ने कहा, “भारत में स्वास्थ्य सेवा की समग्र स्थिति में सुधार के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य अनुसंधान महत्वपूर्ण है और इस तरह यह संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों (यूएन सस्टेनेबल डेव्लपमेंट गोल्स) में निर्धारित उद्देश्यों को पूरा करता है। सिप्ला फाउंडेशन और सीएसआईआर-सीडीआरआई के

बीच इस तरह की साझेदारी समाज के कल्याण के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान को प्रोत्साहित करेगी और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा को सस्ती और सुलभ बनाकर सभी को लाभान्वित करेगी।”

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

महुआ मोइत्रा की परेशानी बढ़ी, NCW ने दर्ज कराई FIR

तृणमूल कांग्रेस की तेज़ तर्रार नेता महुआ मोइत्रा एकबार...

चैंपियंस ट्रॉफी खेलने पाकिस्तान नहीं जाएगी टीम इंडिया!

अब ये बात धीरे धीरे स्पष्ट होती जा रही...

योगी सरकार के इस फैसले से मारुति सुजुकी इंडिया की बल्ले बल्ले

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा तत्काल प्रभाव से मजबूत हाइब्रिड...

हाथरस भगदड़ मामले में भोले बाबा के दो और सेवादार गिरफ्तार

भोले बाबा के दो और सेवादारों की गिरफ्तारी के...