छोटी बचत योजनाओं में सरकार बढ़ा सकती है ब्याज दर

 
छोटी बचत योजनाओं में सरकार बढ़ा सकती है ब्याज दर
बाजार:- इस समय हर कोई अपना पैसा बचाने के बारे में सोच रहा है। वही बढ़ती महंगाई पर लगाम कसने के लिए रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में वर्द्धि की । रेपो रेट में हुई बढ़ोतरी के बाद कई प्राइवेट व सरकारी बैंको ने अपनी ब्याज दरों में इजाफा किया है। वही अब खबर है कि सरकार अगले महीने छोटी बचत योजनाओं (एसएससी) पर अगले महीने से ब्याज दरें 0.5 से 0.75 फीसदी तक बढ़ सकती हैं।
सूत्रों का कहना है कि इस योजना पर ब्याज दर बढाने का निर्णय सरकार इस साल के अंत तक ले सकती है। इस योजना की ब्याज दरों में हुए इजाफा से इन योजनाओं में ज्यादा निवेशक आ सकते हैं और ज्यादा ब्याज देने के लिए सरकार को अतिरिक्त उधारी लेने की कम जरूरत पड़ेगी। हालाकि पिछले 2 सालों से सरकार ने इन योजनाओं की ब्याज दरों में कोई इजाफा नहीं किया है। 
रेटिंग एजेंसी इक्रा की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने इस संदर्भ में कहा है कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में इन योजनाओं की ब्याज दरों को बढ़ाने का फैसला लिया जा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि सरकारी प्रतिभूतियों की ब्याज दरें बढ़ गई हैं। सरकार जो उधारी बाजार से लेती है, वह 7 फीसदी से ज्यादा ब्याज पर होता है। ऐसे में छोटी बचत योजनाओं पर उसे ज्यादा ब्याज देना होगा। छोटी बचत योजनाओं में सबसे ज्यादा ब्याज सुकन्या समृद्धि योजना पर मिलता है जो 7.6 फीसदी है।