depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

Bombay high court-विधवा की दूसरी शादी पहले पति की मौत का बीमा हर्जाना न देने का आधार नहीं

फीचर्डBombay high court-विधवा की दूसरी शादी पहले पति की मौत का बीमा...

Date:

नई दिल्ली। बॉम्बे हाईकोर्ट ने शनिवार को बीमा कंपनी की एक याचिका को खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि विधवा की दोबारा शादी होने के कारण सड़क हादसे में हुई पहले पति की मौत का हर्जाना देने से इनकार नहीं किया जा सकता। जस्टिस एसजी दिगे की बेंच ने बीमा कंपनी की अपील पर फैसला सुनाया।

यह है पूरा मामला

इफको टोकियो जनरल इंश्योरेंस कंपनी ने मोटर दुर्घटना दावा ट्रिब्यूनल MACT के आदेश को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। एमएसटी का आदेश था कि 2010 में सड़क हादसे में हुई पहले पति की मौत का मुआवजा पत्नी को दिया जाए। जबकि, कंपनी के वकील का कहना था कि मृतक गणेश की पत्नी ने दूसरी शादी की थी, इसलिए वह मुआवजा पाने की हकदार नहीं है। जिस पर अदालत ने कहा कि यह उम्मीद करना गलत है कि कोई महिला सिर्फ मुआवजा पाने के लिए जीवन भर या जब तक मुआवजा न मिले तब तक विधवा रहे।

हाइवे पर ऑटो ने मार दी थी टक्कर

अदालत ने कहा कि पति की मृत्यु के समय महिला 19 साल की थी। महिला की उम्र और उसके पति की सड़क हादसे में मौत हुई, ये मुआवजा देने के लिए पर्याप्त है। पति की मौत के बाद मुआवजा पाने के लिए दूसरी शादी न करना किसी के लिए वर्जित नहीं हो सकता। मई 2010 में महिला का पति गणेश बाइक की पिछली सीट पर बैठकर मुंबई-पुणे हाइवे पर कामशेट की ओर जा रहा था। तभी एक ऑटोरिक्शा ने बाइक को मार दिया, जिससे गणेश की मौत हो गई। मामले में जस्टिस डिगे ने अपील खारिज करते हुए कहाए कि मामले में मुझे अपीलकर्ता के वकील के तर्कों में योग्यता नहीं दिखती।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

लखनऊ के आदित्य बने UPSC टॉपर

UPSC 2023 के परीक्षा का मंगलवार को रिजल्ट आ...

किस शिखंडी ने बालियान के काफिले पर कराया हमला

किसी शिखंडी ने मुजफ्फरनगर से भारतीय जनता पार्टी के...

घोषणापत्र: भाजपा बनाम कांग्रेस

अमित बिश्नोईमौजूदा लोकसभा चुनाव के लिए पहले चरण के...

हाईकोर्ट से निराश केजरीवाल पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

अपनी गिरफ़्तारी पर दिल्ली हाईकोर्ट से कोई राहत न...