depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

भाजपा ने रखा इस बार 400 पार का लक्ष्य

नेशनलभाजपा ने रखा इस बार 400 पार का लक्ष्य

Date:

भाजपा ने 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए इस बार 400 से ज़्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है. आज दिल्ली में पार्टी के उच्च पदाधिकारियों की बैठक में आगामी चुनाव के लिए नया नारा दिया गया है और वो ‘तीसरी बार मोदी सरकार, अबकी बार 400 पार’. भाजपा की उच्च स्तरीय बैठक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा की अध्यक्षता में हुई जिसमें चुनाव को लेकर गठित एक विशेष कमिटी के सदस्य शामिल रहे. इसी बैठक में इस बार 400 पार का लक्ष्य रखा गया है , बता दें कि लोकसभा में 400+ सीटें जीतने का कारनामा राजीव गाँधी के ज़माने में हुआ था, तब 1984 में इंदिरा गाँधी की हत्या के बाद हुए चुनाव में कांग्रेस पार्टी को 404 सीटें प्राप्त हुई थी और राजीव गाँधी प्रधानमंत्री बने थे। भाजपा का लक्ष्य उस रिकॉर्ड को ब्रेक करने का है.

गुरुवार को हुई बीजेपी की इस बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अलावा द्रीय मंत्री भूपेन्द्र यादव, केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा, महासचिव तरूण चुघ, महासचिव सुनील बंसल मौजूद रहे। ये बैठक दो घंटे तक चली थी. सूत्रों के मुताबिक पार्टी के नए नारे के साथ ही विधानसभा और लोकसभा स्तर पर पार्टी के संयोजक और सह-संयोजक के नाम भी तय कर लिए गए हैं.

सूत्रों के मुताबिक जल्द ही प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के दौरे लोकसभा क्षेत्रों में शुरू होंगे। पिछली बीजेपी पदाधिकारियों की बैठक में क्लस्टर बनाने का फॉर्मूला दिया गया था जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे। गुरुवार को हुई बैठक में करीब 150 पार्टी पदाधिकारी मौजूद थे। वहीँ भाजपा ने आठ सदस्यों की एक कमेटी गठित की है जो विपक्षी पार्टी के नेताओं को सैम दाम दण्ड भेद किसी भी जतन से भाजपा में लाने का प्रयास करेगी। सभी सदस्यों को इसके लिए एक टारगेट दिया गया है।

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

व्यास तहखाने में जारी पूजा पर रोक लगाने से हाईकोर्ट का इंकार

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के व्यास...

अश्विन-जडेजा ने तो कर दिया काम, अब बल्लेबाज़ों की बारी

रांची टेस्ट के तीसरे दिन अश्विन और कुलदीप ने...

अजीब हाल है इंडिया गठबंधन का

अमित बिश्नोईइंडिया गठबंधन का भी अजीब हाल है, समझ...