depo 25 bonus 25 to 5x Daftar SBOBET

शेयर बाजार में उतरने से पहले डीमैट की जटिलताओं को ज़रूर समझें

फीचर्डशेयर बाजार में उतरने से पहले डीमैट की जटिलताओं को ज़रूर समझें

Date:

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए एक अकॉउंट की ज़रुरत होती है जिसे डीमैट कहते है। बता दें कि डीमैट आपके बैंक अकाउंट की तरह समझने में आसान नहीं होता। इस लिए अगर शेयर बाज़ार में जाने की आपकी इच्छा है तो फिर डीमैट अकाउंट और इसमें किस किस तरह के चार्ज या शुल्क लगते हैं उनको समझना बहुत ज़रूरी है. डीमैट अकाउंट को सरल भाषा में आप ऐसे समझ सकते हैं कि ये एक लॉकर होता है जिसमें आपके खरीदे गए शेयर रखे रहते हैं ताकि कोई इन्हें चुरा न सके मगर इसकी आपको भारी फीस भी भरनी पड़ती है जो अलग अलग रूप में आपसे वसूली जाती है ताकि निवेशक को ये न लगे उसका काफी मुनाफा (अगर है) तो उसे उनका डीमैट अकॉउंट ही खा जाता है. तो शेयर बाजार में जाने से पहले डीमैट अकाउंट की जटिलताओं को जनंना आपके लिए बहुत ज़रूरी है.

डीमैट अकॉउंट ब्रोकरेज कंपनियां खोलती हैं। इसके लिए ये आपको तरह तरह से लुभाने की कोशिश करती हैं, कोई तो जीरो चार्ज का भी ऑफर कर देता है लेकिन असलियत कुछ और होती है. इसका पता आपको तब चलता है जब आपके पास पहला कांट्रैक्ट नोट आता है. उसमें लगे हुए चार्जेज से आपका दिमाग़ घूम सकता है.इसमें पहला मुख्या चार्ज एनुअल मेंटेनेंस के रूप में ब्रोकर आपसे वसूलता है।

हर बार जब आप शेयर खरीदते या बेचते हैं, तो ट्रांज़ैक्शन चार्ज लगाया जाता है। यह शुल्क लेनदेन मूल्य या कारोबार किए गए शेयरों की संख्या पर आधारित होता है। ट्रांज़ैक्शन चार्ज को समझना महत्वपूर्ण है क्योंकि बार-बार ट्रेड करने से पूरी लागत पर असर पड़ सकता है। इंट्रा डे कारोबार करने वाले तो खासतौर से इससे प्रभावित रहते हैं.

फिर अगर आप भौतिक शेयर प्रमाणपत्रों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में बदलना चाहते हैं, तो डिमटेरियलाइज़ेशन शुल्क लागू हो सकता है। इसके अलावा जब आप दूसरे ट्रांजैक्शन के लिए शेयरों को को कोलैटरल के रूप में गिरवी रखते हैं या छुड़ाते हैं, तो ब्रोकर अलग शुल्क लगाते हैं। डीमैट खाते के विवरण में कोई भी बदलाव या करेक्शन की बात हो तो अकाउंट करेक्शन चार्ज लगता है। अगर आपका डीमैट खाता लंबे समय तक निष्क्रिय रहता है तो भी ब्रोकर शुल्क लगा सकते हैं। कॉर्पोरेट कार्रवाइयों में बोनस मुद्दे, अधिकार मुद्दे, या लाभांश में स्पेशल चार्ज शामिल हो सकते हैं। ब्रोकर इन कॉर्पोरेट कार्यों को करने और आपके डीमैट खाते में जमा करने के लिए चार्ज लगाते हैं। कहने का मतलब डीमैट अकॉउंट आपसे शेयर बाज़ार में कारोबार करने के लिए अच्छी खासी वसूली कर लेता है.

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

मोदी जी को सामने देख बाग़ बाग़ हो गए नितीश, बोले-अब कहीं नहीं जाने वाले

प्रधानमंत्री मोदी को वापस पाकर बिहार के मुख्यमंत्री नितीश...

अब डॉक्टर हर्षवर्धन ने राजनीति से लिया संन्यास

लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा की पहली सूची कल...

अवैध माइनिंग केस में सीबीआई ने अखिलेश को भेजा समन

समाजवादी पार्टी को राज्यसभा चुनाव में अभी कल उनके...

गिरावट में खुला शेयर बाज़ार

मंगलवार के भारतीय शेयर बाजार का कारोबार गिरावट के...