Site icon Buziness Bytes Hindi

मोदी 3.0 कैबिनेट में यूपी की कास्ट डायनामिक्स को साधने की कोशिश

modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट 3.0 का लक्ष्य उत्तर प्रदेश में क्षेत्रीय और जातिगत गतिशीलता को संतुलित करना है। दिलचस्प बात यह है कि राज्य से संसद सदस्यों की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट के बावजूद – 2019 में 64 से 2024 में 36 तक – कैबिनेट में यूपी का प्रतिनिधित्व 8% बढ़ा है। नई सरकार में, प्रधानमंत्री मोदी का लक्ष्य यूपी की 60-62% जातियों को आकर्षित करना है, जो 300-320 विधानसभा क्षेत्रों को प्रभावित करती हैं। यह रणनीतिक कदम भविष्य के चुनावों में भाजपा की स्थिति को संभावित रूप से मजबूत करने के लिए बनाया गया है, जो उत्तर प्रदेश के जटिल सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य को संबोधित करने के लिए एक सूक्ष्म दृष्टिकोण को दर्शाता है।”

चुनाव परिणामों और मंत्रिस्तरीय प्रतिनिधित्व की तुलना एक रणनीतिक समायोजन को दर्शाती है। 2014 में, भाजपा और उसके सहयोगियों ने यूपी में 73 सीटें जीती थीं, जिसमें 18 मंत्री थे, जो कैबिनेट का 24.5% हिस्सा था। 2019 में पार्टी ने 64 सीटें हासिल कीं, लेकिन मंत्रियों की संख्या घटकर 13 रह गई, जो कैबिनेट का 20% है। 2024 में सिर्फ़ 36 सीटें जीतने के बावजूद, यूपी का मंत्री पद का प्रतिनिधित्व बढ़कर 10 हो गया, जो कैबिनेट का 28% है।

मोदी की नई कैबिनेट जाति संतुलन पर भी ध्यान केंद्रित करती है, जिसमें बदलते चुनावी गतिशीलता को संबोधित करने के लिए समुदायों का मिश्रण शामिल है। कैबिनेट में अन्य पिछड़ा वर्ग से चार मंत्री शामिल हैं, जिनमें से दो सबसे पिछड़े वर्गों से हैं। दलित समुदाय से दो मंत्री हैं, विशेष रूप से गड़रिया और पासवान समुदायों से, और उच्च जातियों से तीन मंत्री हैं। खास बात यह है कि जाटव और हरिजन समुदाय से कोई मंत्री नहीं है, जो इन समूहों के भाजपा से दूर होने का संकेत देता है।

यूपी में भाजपा के खराब प्रदर्शन का कारण गैर-जाटव और कुर्मी ओबीसी मतदाताओं का इंडिया ब्लॉक की ओर जाना है। इसे संबोधित करने के लिए, फेरबदल में कुर्मी समुदाय से दो मंत्री शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, दो मंत्री गैर-जाटव समुदायों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो इन मतदाता वर्गों से समर्थन हासिल करने के प्रयास को दर्शाता है।

पूर्वांचल में, जहां 27 लोकसभा सीटें हैं, भाजपा ने 10 सीटें जीतीं और उसके सहयोगी अपना दल ने एक सीट जीती। यहाँ 2019 से काफी गिरावट है, जब भाजपा और अपना दल ने 20 सीटें जीती थीं। नए मंत्रिमंडल में तीन मंत्री इसी क्षेत्र से हैं, जो वहां समर्थन फिर से हासिल करने के प्रयास को दर्शाता है।

पश्चिमी यूपी में, भाजपा ने 29 में से 14 सीटें जीतीं, जबकि दो सीटें उसके सहयोगी आरएलडी को मिलीं। 2019 में, भाजपा ने इस क्षेत्र में 21 सीटें जीती थीं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश से चार मंत्री बनाए गए हैं, जो वहां पार्टी की मौजूदगी को मजबूत करने पर जोर देते हैं।

मध्य उत्तर प्रदेश और बुंदेलखंड में, जहां भाजपा ने 24 में से 9 सीटें हासिल कीं, इस क्षेत्र से केवल एक मंत्री नियुक्त किया गया है, जो इस क्षेत्र में पार्टी के सामने आने वाली चुनौतियों को उजागर करता है।

Exit mobile version