Gujarat Chunavi Dangal: एसआईटी का दावा गुजरात को अस्थिर करने के लिए तीस्ता सीतलवाड़ को कांग्रेस ने की थी फंडिंग

 
Gujarat Chunav News Hindi

 गुजरात सरकार द्वारा गठित विशेष जांच दल एसआईटी ने दावा किया कि सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ को गुजरात सरकार को अस्थिर करने के लिए कांग्रेस ने फंडिंग की थी। यह फंडिंग 2002 में हुई थी। एसआईटी का दावा है कि सीतलवाड़ 2002 में गोधरा में ट्रेन जलने की घटना के बाद गुजरात में निर्वाचित सरकार को अस्थिर करने के बड़ी साजिश रच रही थीं। इतना ही नहीं उन्हें प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दल के एक बड़े नेता से वित्तीय राशि भी मिली थी। गुजरात में वर्ष 2002 में भीषण दंगे हुए थे। उस समय विपक्ष में कांग्रेस थी। एसआईटी ने सीतलवाड़ की जमानत याचिका पर आपत्ति जताते हुए शहर की दीवानी अदालत में हलफनामे दायर कर ये बात कही थी। एसआईटी ने अपने हलफनामें कहा कि आरोपियों ने राजनीतिक मंशा से एक बड़ी साजिश रची थी। 
गुजरात पुलिस एसआईटी ने 2002 के सांप्रादियक दंगों से जुड़े मामले में तीस्ता सीतलवाड़ और गुजरात के पूर्व पुलिस महानिदेशक आरबी श्रीकुमार के बाद पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को गिरफ्तार किया था। 

Read also: Haji Yakub Qureshi: भगोड़े याकूब कुरैशी के बाद अब दोनों बेटे हुए 25 हजारी

एसआईटी ने हलफनामें कहा कि मामले में आगे की जांच चल रही है। अभी तक दो गवाहों के बयान लिए हैं। एसआईटी ने कहा कि दोनों गवाहों के बयानों से पता चला है कि साजिश को तीस्ता सीतलवाड़ ने अन्य आरोपियों के साथ, तत्कालीन राज्यसभा सांसद और कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल के इशारे पर किया था।