Gujarat Chunavi Dangal: जो अपनी पार्टी के नेता के दुःख में नहीं शामिल हुए वह जनता का क्या होगा: हार्दिक पटेल

 
hardik patel News Hindi

Gujarat Chunavi Dangal: गुजरात मे इस साल के अंत मे विधानसभा चुनाव होने को हैं वही इस समय गुजरात की राजनीति में हार्दिक पटेल चर्चा काविषय बने हुए हैं। हार्दिक ने अभी हाल ही में कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया और अब वह खुलकर कांग्रेस की आलोचना करते दिख रहे हैं। हार्दिक के इस बदले सुर के पीछे कई लोग यह कारण बता रहे हैं कि वह अपने ऊपर लगे मुकदमों के चलते जेल नहीं जाना चाहते डर के उन्होंने कांग्रेस को इस्तीफा दिया है और अब वह भाजपा में जाने की योजना बना रहे हैं।

हार्दिक के भाजपा में जाने की अटकलें तब तेज हुई जब इन्हें इनके बयानों के बीच भगवा सरकार की तारीफ करते देखा गया। लेकिन कब हार्दिक ने इन अटकलों पर खुलकर अपना मत रखा है उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान कहा अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि मै भाजपा मे जाऊंगा या किसी अन्य दल में और इस तरह के कयास लगाना ठीक नहीं है यह राजनीति में उचित नहीं होता मैं जब किसी पार्टी का हिस्सा बनूगा तो यह बात सबको स्वतः ही पता चल जाएगी। वही आगामी 5 दिनों में गुजरात के लिए और पूरे भारत के लिए अच्छी खबर आएगी यह खबर सुनकर हर कोई खुशी से झूम उठेगा।

Read also: Champawat Bypoll: सुबह 7 बजे से बूथों पर लंबी लाइनें, कई जगह ईवीएम खराब

कांग्रेस को लेकर हार्दिक पटेल ने कहा आज कांग्रेस की स्थिति बिगड़ गई है आज कांग्रेस पार्टी से 28 साल का युवा, 50 साल के सुनील जाखड़ और 75 वर्ष के कपिल सिंबल अलग हों रहे हैं। कांग्रेस के लिए यह वास्तव में चिंता का विषय है पार्टी को विचार करना चाहिए की उनकी नीतियो में क्या गलत है की उनकी पार्टी टूटती जा रही है वही अगर कांग्रेस अब भी नहीं सोचती तो आगामी समय मे कांग्रेस को खत्म होने से कोई नहीं बचा सकता। 

वही मुझे कांग्रेस से जो दिक्कत थी उंसे मैंने सोनिया गांधी को लिखे पत्र में बताया था कांग्रेस को सचेत और सजग रहना चाहिए मैने पहले ही कहा था कांग्रेस आज जो निर्णय लेती है वह एकता से नहीं होते और उसके इस एकल सम्मति के निर्णय से पार्टी टूटू रही है। मैं जो भी हूँ वास्तविक हूँ लोगो ने मुझे बनाया है और अगर मैं उन्हीं के लिए काम नहीं कर पा रहा तो मेरा अस्तित्व डगमगा जाएगा। मुझे अस्तित्व पर उठे सवाल नहीं स्वीकार। 

मैने गुजरात मे 6 से 7 हजार गांव का दौरा किया है जब मैं जनता के बीच जाता हूँ तो लोग कहते हैं कांग्रेस उनके लिए हितकारी नहीं है वह उनका हित नहीं सोचती वह सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए जनता का उपयोग करती है दुःख होता है। वही सबसे ज्यादा असहनीय तब था जब मेरे पिता जी का देहांत हुआ उस समय कांग्रेस का जो व्यवहार था वह असंवेदनशील था। पिता जी के निधन के समय कोई नेता नहीं आया अब अगर आप अपनी पार्टी के नेता के दुख के भागीदार नहीं हो सकते तो आप जनता का दुख क्या समझेंगे। 

Read also: Gujarat Chunavi Dangal: भाजपा सांसद बोले गुजरात में नीचे गिरा शिक्षा का स्तर, बयान को विपक्ष ने बनाया मुद्दा

वही अगर हम भाजपा की बात करे तो मैं यह नहीं कहता की उनकी सभी नीतियां बेहतर है लेकिन गुजरात की जनता ने भाजपा पर विश्वास जताया है।  इसका मतलब भाजपा ने कुछ तो जरूर किया है की जनता पिछले 30 सालों से उसपर विश्वास जता रही है।