Gujarat Chunavi Dangal: भाजपा सांसद बोले गुजरात में नीचे गिरा शिक्षा का स्तर, बयान को विपक्ष ने बनाया मुद्दा

 
Gujarat Chunavi Dangal

Gujarat Chunavi Dangal: गुजरात मे होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पूर्व राजनीतिक दलों ने सियासी द्वंद्व आरम्भ हो गया है और पक्ष विपक्ष लगातार एक दूसरे पर अपने शाब्दिक गांडीव से प्रहार कर रहा है। जहां पक्ष अपनी नीतियों से जनता को लुभाने में लगा है वही विपक्ष पक्ष को जनता के सम्मुख वस्त्र विहीन करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। अब इसी कड़ी में भाजपा सांसद मनसुख वसावा का एक ऐसा बयान सामने आया है जिसे सुनकर हर कोई दंग रह गया है।

भाजपा सांसद मनसुख वसावा ने अपने बयान में कहा की गुजरात का शिक्षा स्तर नीचे गया गया है जिसके चलते गुजरात से गिने चुने युवा आईपीएस अधिकारी बन पाते हैं। उनके इस बयान ने राजनीतिक गलियारों में हलचल मचा दी और उनकी खुद की पार्टी भाजपा को सावालो के घेरे में उतार दिया। 

Read also: Champawat Bypoll: सुबह 7 बजे से बूथों पर लंबी लाइनें, कई जगह ईवीएम खराब

भाजपा सांसद के बयान को आप ने लिए हाँथो हाँथ

भाजपा सांसद के बयान को आप ने हाँथो हाँथ लिया और आप नेता ईशुदान गढवी ने कहा सरकार को गुजरात की शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए। क्योंकि आज आपकी ही पार्टी के नेता यह कह रहे हैं की शिक्षा स्तर नीचे गया है। उन्होंने आगे कहा जब आप यह सवाल करती है तो शिक्षा मंत्री को यह अच्छा नहीं लगता और वह भड़क उठते हैं कहते हैं हम बच्चो को लेकर किसी अन्य राज्य में जाए और वहाँ भर्ती करवाए। मेरी मुख्यमंत्री जी से अपील है वह गुजरात के शिक्षा स्तर पर अपना ध्यान केंद्रित करें और उसे बेहतर बनाने की कोशिश करें। 

Read also: Delhi Health Minister Satyendar Jain Arrested : करप्शन मामले में AAP सरकार के एक और हेल्थ मिनिस्टर गिरफ्तार, अब क्या करेंगे केजरीवाल

जाने सांसद के बयान पर क्या बोली कांग्रेस

भाजपा सांसद के बयान पर गुजरात कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मनीष दोशी ने कहा अब सरकार को नींद से उठ जाना चाहिए क्योंकि अब सवाल उनकी पार्टी के नेताओं की ओर से हो रहे हैं और राज्य की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाए जा रहे हैं। राज्य सरकार की रिपोर्ट के अनुसार ही 1995 में गुजरात शिक्षा के मामले में देश में 9वें स्थान पर था, जो 2019 में 21वें स्थान पर आ गया है। राज्य के 38 हजार स्कूल में से केवल 14 ए प्लस ग्रेड के हैं तथा 700 स्कूल एक ही शिक्षक के भरोसे चल रहे हैं।