गुजरात चुनावी दंगल: साणंद सीट पर होगी अमित शाह की परीक्षा

 
 साणंद सीट पर होगी अमित शाह की परीक्षा 

गुजरात में विधानसभा चुनाव धीरे धीरे नज़दीक आते जा रहे हैं और साथ ही राजनीतिक पार्टियां अपनी सरगर्मी को भी और तेज़ कर रही हैं. एक एक सीट का आंकलन किया जा रहा है कि किस सीट पर किसका पल्ला भारी है. वैसे तो मुकाबला पारम्परिक रूप से सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस के बीच ही है लेकिन आम आदमी पार्टी भी इस बार पूरा ज़ोर लगाए हुए है और मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की कोशिश में है. बात अगर कुछ महत्वपूर्ण सीटों की करें तो गांधीनगर लोकसभा क्षेत्र की साणंद विधानसभा सीट चर्चा में है. बता दें कि गाँधीनगर लोकसभा सीट से देश के गृह मंत्री अमित शाह सांसद हैं इसलिए इस सीट का महत्त्व और भी बढ़ जाता है.  

साणंद सीट की अगर बात की जाए तो यहां क्षत्रिय और पाटीदार वोटरों की संख्या अधिक है. इस सीट पर अभी तक पारम्परिक रूप से भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी भिड़ंत होती रही है. यह विधानसभा क्षेत्र औद्योगिक दृष्टि से काफी विकसित है, यहीं पर टाटा का नैनो प्लांट भी है. जिसकी वजह पिछले कुछ सालों  में औद्योगिक विकास और ऑटोमोबाइल उद्योग यहाँ पर फला फूला है.  

Read also: BJP removes Sunil Bansal: संगठन मंत्री सुनील बंसल को पद से हटाया! अब तेलंगाना में भाजपा को करेंगे मजबूत

विधानसभा चुनावों की बात करें तो यहाँ पर कभी कांग्रेस का दबदबा था और साल 1962 से लेकर 1972 तक लगातार तीन चुनाव जीते, बाद में परिसीमन के कारण साणंद का वजूद समाप्त हो गया और इसका विलय अहमदाबाद जिले की सरखेज विधानसभा सीट में कर दिया गया. 2012 हुए परिसीमन में साणंद सीट दोबारा वजूद में आई. साणंद विधानसभा की बात करें तो यहाँ करीब ढाई लाख वोटर हैं. इस सीट पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां मज़बूत हैं, अगर पिछले नतीजों को देखें तो जीत का मार्जिन ज़्यादा नहीं रहता। 2012 यह सीट कांग्रेस के पास थी जब्कि 2017 में यह भाजपा के पास पहुँच गयी. अब एकबार फिर यहाँ दोनों पार्टियों के बीच ज़ोरदार मुकाबला होने की उम्मीद है.