Gujarat Chunavi Dangal -आदिवासियों को साधने के लिए कांग्रेस का यह है प्लान

 
राहुल गांधी

Gujarat Chunavi Dangal : 10 मई को गुजरात में राहुल गाँधी ने "आदिवासी सत्याग्रह रैली" कर पार्टी का चुनावी अभियान छेड़ दिया। राहुल गाँधी का गुजरात चुनाव अभियान आदिवासियों के साथ शुरू करना कांग्रेस की एक सोची समझी रणनीति है. कांग्रेस का चूँकि यह परंपरागत और सीट जिताऊ वोट बैंक रहा है इसलिए सबसे पहले उसे एकजुट रखना और भाजपा से बचाना उसकी प्राथमिकता बनी. कांग्रेस ने इस समुदाय को साधने के लिए एक पूरा रोडमैप तैयार किया है और इस रोडमैप को शत प्रतिशत ज़मीन पर उतरने के लिए सभी आदिवासी नेताओं और विधायकों को ज़िम्मेदारी सौंप दी गयी है. 

Also Read  : Gujarat chunavi dangal:- भाजपा करती दो हिंदुस्तान के मॉडल पर काम:- राहुल गांधी

जानकारी के मुताबिक आदिवासियों से कनेक्ट होने का कांग्रेस पार्टी ने जो प्रोग्राम बनाया है उसके तहत पार्टी कार्यकर्ता 10 लाख आदिवासी परिवारों से उनके घरों पर जाकर मिलेंगे। वह अपने साथ इंदिरागांधी संकल्प पत्र ले जायेंगे और आदिवासी परिवारों को इंदिरा गाँधी और उनके सम्बन्धो की याद दिलाएंगे। बता दें कि दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी आज भी आदिवासी क्षेत्रों में काफी लोकप्रिय हैं. इसके अलावा कांग्रेस पार्टी आदिवासी इलाकों में 10 हज़ार से ज़्यादा संविधान चौपाल लगाकर उनके अधिकारों के बारे में उन्हें जानकारी देगी. इन चौपालों में बताया जायेगा कि पिछले 27 सालों से भाजपा सरकार गुजरात के आदिवासियों के जल जंगल और ज़मीन पर कब्ज़ा किये हुए है. 

Also Read : Gujarat chunavi dangal : एक नेता जो भाजपा के लिए बनेगा गुजरात चुनाव में बड़ा पत्ता

आदिवासियों के साथ कार्यकर्ता ढंग से संवाद कर सकें इसके लिए पांच हज़ार कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग वर्कशॉप लगाकर प्रशिक्षित किया जायेगा। इसके अलावा आदिवासी समुदाय के सभी पार्टी विधायकों को सख्ती के साथ क्षेत्र में रहने और काम करने के निर्देश भी जारी किये गए हैं. कुल मिलाकर कांग्रेस को मालूम है कि भाजपा और आम आदमी पार्टी उसके वोट बैंक में सेंध लगाने के फ़िराक में हैं इसलिए दुर्घटना से पहले बचाव का इंतज़ाम कर रही है, कितना कामयाब होगी यह तो समय ही बताएगा।