Congress Chintan Shivir 2022: पार्टी का कर्ज उतारने का समय, कांग्रेस की ओर उम्मीद की नजरों से देख रहा देश : सोनिया गांधी

 
Sonia Gandhi
सोनिया गांधी ने कहा कि पूरी विनम्रता के साथ हम आत्मनिरीक्षण करे और हम यह तय करें कि यहां से निकले तो नई उर्जा के साथ निकले। उन्होंने कहा कि देश एक बार फिर कांग्रेस से उम्मीद की नजरों से देख रहा है। इसलिए हम साहस और समर्पण का परिचय देंते हुए आगे बढ़े। कांग्रेस संगठन के सामने जो परिस्थितियां अब तक आई हैं वो असाधारण रही।

उदयपुर। कांग्रेस की कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज नव संकल्प चिंतन शिविर की शुरूआती भाषण में कहा कि आज समय आ गया है कि अपनी निजी आकांक्षाओं को हमे संगठन हितों के अधीन रखना होगा। कांग्रेस ने हमें बहुत कुछ दिया है। लेकिन आज कर्ज उतारने का समय आ गया है। उन्होंने कहा कि सभी से आग्रह करती हैं कि अपने विचार इस चिंतन शिविर में खुलकर रखें। जिससे कि सभी के विचारों के बारे में पता चल सके। यहां पर जो भी हो लेकिन यहां से बाहर सिर्फ संगठन की मजबूती और एकता का संदेश देश में जाना चाहिए।

सोनिया गांधी ने नव संकल्प चिंतन शिविर में कहा कि अब समय आ गया है हम अपने निजी आकांक्षाओं को संगठन के हित के अधीन रखकर छोड़ दें। उन्होंने कहा कि पार्टी की चुनावों में हो रही लगातार हार और उससे मिल रही नाकामयाबियों से हम बेखबर नहीं हैं। उन्होंने चुनाव में मिली हारों का जिक्र करते हुए कहा कि देश की जनता की उम्मीदों से हम अनजान नहीं है। आज हम यहां पर यह प्रण लेने के लिए एकजुट हुए हैंं कि देश की राजनीति को वापस उसकी पहले की भूमिका में लाएंगे। जिसकी आज लोगों को जरूरत है।

सोनिया गांधी ने कहा कि पूरी विनम्रता के साथ हम आत्मनिरीक्षण करे और हम यह तय करें कि यहां से निकले तो नई उर्जा के साथ निकले। उन्होंने कहा कि देश एक बार फिर कांग्रेस से उम्मीद की नजरों से देख रहा है। इसलिए हम साहस और समर्पण का परिचय देंते हुए आगे बढ़े। कांग्रेस संगठन के सामने जो परिस्थितियां अब तक आई हैं वो असाधारण रही। इसका मुकाबला भी असाधारण तरीके से करना होगा।

Also read: लेकसिटी पहुंचीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, उदयपुर होटल में कड़ी सुरक्षा

सोनिया गांधी ने कहा कि हमें परिवर्तन और सुधारों की बेहद जरूरत है। ढांचागत सुधार और रणनीति में बदलाव के साथ ही आगे बढ़ेगे तभी हम सफल हो सकेंगे। मैं जोर देकर कहना चाहती हूं कि हमारा पुनर्रुत्थान सामूहिक प्रयास से हो सकेगा। यह चिंतन शिविर हमारे आगे के सफर में प्रभावशाली कदम होगा।

सोनिया गांधी ने मोदी सरकार की नीतियों पर हमला किया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की नीतियों के कारण देश कई समस्याओं से जूझ रहा है। इसके कारण कांग्रेस के सामने कई टास्क है। भाजपा की मोदी सरकार अल्पसंख्यकों को निशाना बना रही है। मोदी सरकार नोटबंदी लाई। जिससे भारत की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई। खाने की चीजों,गैस, के अलावा पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं। इससे जनता पर बेवजह का बोझ डाला है। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों का निजीकरण हो रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने पूरे देश का  माहौल बिगाड़ दिया है।